इस जड़ी बूटी से बवासीर और खुजली एक पल में हो जाएगी गायब

अक्सर आपने सुना है कि सिर का गंजापन दूर करने के लिए क्यूसेक एक बहुत ही प्रभावी औषधि मानी जाती है। हर 4 में से एक व्यक्ति बढ़ते प्रदूषण के कारण गंजेपन का शिकार है। इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए लोग कई तरह के नुस्खे आजमाते हैं, लेकिन कोई भी नुस्खा कारगर नहीं है।

लेकिन हमारे आसपास ऐसी जड़ी-बूटियाँ हैं जो कई शारीरिक समस्याओं को ठीक कर सकती हैं। आकाशबेल एक ऐसी जड़ी-बूटी है। जानकारी के अनुसार, आकाश में पत्तियां नहीं हैं, यह बहुत नरम है। इसके फूल सफेद और फल छोटे होते हैं। डॉ। मेरे इलाज से जुड़े हैं। लक्ष्मीदत्त शुक्ल के अनुसार, गंजेपन की समस्या को दूर करने के लिए, आकाशबेल को तिल के तेल में पीसकर सिर में अच्छी तरह से मालिश करनी चाहिए। इससे बालों की जड़ें मजबूत होती हैं और बाल टूटते नहीं हैं। इसे अमरबेल के नाम से भी जाना जाता है। आक के पत्तों को 50 ग्राम पीसकर 1 लीटर पानी में उबालें, लेकिन इस पानी से बाल धोने से बाल मजबूत और चमकदार बनते हैं। साथ ही डैंड्रफ भी दूर होता है।

खबरों के मुताबिक, आकाशबेल बवासीर के मरीजों के लिए रामबाण है। मुलेठी के पत्तों का 10 ग्राम रस और काली मिर्च का चूर्ण मिलाकर दिन में दो बार खाने से बवासीर ठीक हो जाती है और शरीर की सूजन भी कम हो जाती है। खून साफ ​​करने में आसमानी बेल का इस्तेमाल बहुत फायदेमंद है। 4 ग्राम आकाश बेल को पानी में डालकर इसका काढ़ा तैयार करें। इस काढ़े के नियमित उपयोग से खून साफ ​​होता है। खून साफ ​​होने से त्वचा संबंधी अन्य बीमारियां ठीक हो जाती हैं और चेहरे पर पिंपल्स नहीं आते हैं। डॉ। लक्ष्मीदत्त शुक्ल के अनुसार, अमरबेल का काढ़ा पीने से यकृत ठीक हो जाता है। इसके अलावा, 5 से 10 मिलीग्राम आकबेल के रस के सेवन से लीवर की समस्या होती है।

यह मधुमेह के रोगियों के लिए बहुत प्रभावी दवा है। आकाशबेल के 5 ग्राम चूर्ण का नियमित रूप से सेवन करने से मधुमेह ठीक हो जाता है। यह रक्त शर्करा के स्तर को कम करता है। खुजली की समस्या को दूर करने के लिए आकाश बेल का उपयोग फायदेमंद है। गाउट रोग अक्सर बुजुर्गों में देखा जाता है। आकाशबेल को गर्म करके गठिया के दर्द वाले स्थान पर सेंकने से दर्द से राहत मिलती है और सूजन भी ठीक हो जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »