कोरोना काल मे विदेश भंडार में हुई बढ़ोतरी, जानिए कैसे?

कोरोना संकट के बीच विदेशी मुद्रा भंडार में इस बढ़ोतरी को काफी अच्छा माना जा रहा है। देश का विदेशी मुद्रा भंडार इससे पिछले सप्ताह में 3 अरब डॉलर की बढ़त के साथ 490.04 अरब डॉलर पर आया था, जो उस समय का उच्चतम स्तर था। विदेशी मुद्रा भंडार एक या एक से अधिक करेंसी में रखे जाते हैं। आमतौर पर भंडार डॉलर या यूरो में रखा जाता है।

आरबीआई साप्ताहिक आधार पर इसके आंकड़े पेश करता है। अब सवाल ये उठता है कि तमाम नकारात्मक कारणों के बाद भी विदेशी पूंजी भंडार में बढ़ोतरी कैसे हुई। दरअसल, मई के दौरान अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में भारी गिरावट देखने को मिली है. इस वजह से कच्चे तेल को खरीदने के लिए सरकार का खर्च कम हुआ है।

कच्चा तेल खरीदने के लिए सरकार को डॉलर में भुगतान करना पड़ता है ऐसे में कच्चे तेल की कीमतें घटने से सरकार को कम डॉलर खर्च करने पड़े हैं। इसी कारण घरेलू स्तर पर डॉलर की बचत हुई है और विदेशी मुद्रा भंडार में वृद्धि हुई।

दोस्तों यह पोस्ट आपको कैसी लगी हमें कमेंट करके जरूर बताएं और अगर यह पोस्ट आपको पसंद आई हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर लाइक करना ना भूलें और अगर आप हमारे चैनल पर नए हैं तो आप हमारे चैनल को फॉलो कर सकते हैं ताकि ऐसी खबरें आप रोजाना पा सके धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *