इस तरह से रोजाना ऐसे करें पुश-अप, होंगे अनगिनत फायदे

आज के समय में कई लोग अधिक से अधिक पुश-अप करना मर्दानगी की पहचान मानते हैं। दोस्तों के बीच कभी ताकत को लेकर शर्त लगती है तो उसका पता या तो पंजा लड़ाकर लगाया जाता है या पुश-अप करके। हावर्ड यूनिवर्सिटी की एक नई रिसर्च के मुताबिक पुश-अप हमारी सेहत के लिए बेहद जरूरी और फायदेमंद होते हैं। यह स्टडी जेएएमए नेटवर्क ओपन में छापी गई है, जिसे हावर्ड टी.एच चैन स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ द्वारा किया गया है।

इस स्टडी के शोधकर्ताओं ने 1,104 पुरुष फायर फाइटर (आग बुझाने वाले) का 10 साल तक स्वास्थ्य डेटा इकट्ठा किया था। इसमें अधिकतर पुरुष 39 वर्ष के थे। इनका बॉडी मास्स इंडेक्स (बीएमआई) 28.7 था। बीएमआई शरीर की लंबाई और वजन का अनुपात होता है। 18.5 से 24.9 बीएमआई वाले व्यक्ति को स्वस्थ माना जाता है। कोई भी 25 से अधिक, लेकिन 30 से कम बीएमआई वाले व्यक्ति को अक्सर मोटापे से ग्रस्त माना जाता है।

शोध के दौरान शोधकर्ताओं ने हर प्रतिभागी के पुश-अप करने की क्षमता और ट्रेडमिल पर दौड़ने की सहनशीलता की जानकारी इकट्ठा की। इसके बाद पुश-अप करने की क्षमता के आधार पर प्रतिभागियों को 5 ग्रुप में बांट दिया गया। साथ ही सभी प्रतिभागियों ने अगले 10 साल तक सालाना परीक्षा पूरी की।

परीक्षण के दौरान 37 प्रतिभागी हृदय संबंधित रोगों से ग्रस्त पाए गए। इनमें से 36 उस ग्रुप में आते थे जो 40 या उससे कम पुश-अप कर पाते थे। शोधकर्ताओं ने स्टडी के अंत में पाया कि मिडिल एज के व्यक्ति जो 40 या उससे अधिक पुश-अप कर पाए थे, उनमें शोध के शुरुआत में 10 पुश-अप करने वाले प्रतिभागियों के मुकाबले हृदय रोग के मामले कम पाए गए।

दिल के लिए करें रोजाना पुश-अप
हृदय रोग विश्व में लोगों की मृत्यु का मुख्य कारण है। हम सभी जानते हैं कि शारीरिक गतिविधियां केवल हृदय के स्वास्थ्य के बारे में ही नहीं बतातीं, बल्कि जीवन प्रत्याशा दर को भी बढ़ाती हैं। ऐसा पहली बार हुआ है जब पुश-अप करने की क्षमता और हृदय रोग के जोखिम के बीच के संबंध पर कोई शोध किया गया हो। क्योंकि यह शोध केवल पुरुषों पर किया गया था, इसलिए अभी इस विषय पर और स्टडी करने की आवश्यकता है। यह परीक्षण आसानी से कोई भी व्यक्ति अपने घर पर ही कर सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »