डायबिटीज और अस्थमा के मरीजों को अखरोट खाने से होगा फायदा

दिल और दिमाग रहेगा स्वस्थ
इसमें मौजूद ओमेगा-3 फैटी एसिड मस्तिष्क (दिमाग) को स्वस्थ रखने के साथ स्मरण शक्ति को बढ़ाने में कारगर होता है। ओमेगा-3 फैटी एसिड मस्तिष्क के अलावा दिल को भी स्वस्थ रखता है।

डायबिटीज में संतुलन
एक्सपर्ट्स के अनुसार इसके नियमित सेवन से डायबिटीज टाइप-2 का खतरा कम हो सकता है।

अस्थमा के मरीजों को होगा फायदा
इसमें मौजूद फैटी एसिड अस्थमा, अर्थराइटिस और एग्जिमा जैसी समस्याओं को ठीक करने या कम करने में मददगार होता है।

वजन बढ़ाने या घटाने में सहयोग
इसमें फाइबर की मात्रा आपके उम्र और वजन के अनुसार संतुलित लेने पर वजन बढ़ाने और घटाने दोनों में सहायक है।

तनाव होता है कम
अखरोट खाने से मेलाटोनिन हॉर्मोन का स्राव सही मात्रा में होता है। मेलाटोनिन अनिंद्रा की समस्या दूर करने के साथ-साथ तनाव मुक्त करता है।

रोगों से लड़ने की क्षमता बढ़ती है
इसमें मौजूद एंटीऑक्सिडेंट शरीर को रोगों से लड़ने की क्षमता बढ़ाने में सक्षम है

गर्भावस्था में अखरोट है बड़े काम की चीज
यह कई पोषक तत्वों से भरपूर होता है। गर्भावस्था में नट्स के उपयोग करने के लिए डॉक्टर्स विशेष रूप से अखरोट का सेवन करने के लिए कहते हैं। यह गर्भावस्था में हार्ट और मेटाबॉलिज्म को भी लाभ पहुंचाता है। एक शोध में कहा गया है कि गर्भावस्था के दौरान अखरोट खाने से बच्चे के मस्तिष्क की क्षमता और याददाश्त बढ़ाने में मदद मिलती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »