कोरोना वायरस बचने के लिए क्यू आर कोड का इस्तेमाल कर रहा है चीन, पढ़े पूरी खबर

चीन में हर नागरिक को अपने घर से बाहर जाने, आफिस जाने, कैफे, रेस्टॉरेंट, मॉल आदि में प्रवेश करने के लिए अपने मोबाइल में एक क्यू आर कोड दिखाना होता है। जिसको देखने के बाद ही सुरक्षाकर्मी आपको यात्रा या प्रवेश करने की अनुमति प्रदान करते हैं।

कोरोना वायरस से बचाव के लिए अगर आपका क्यू आर कोड मानदंडो के मुताबिक नहीं पाया जाता तो आपको प्रवेश करने या यात्रा करने नहीं दिया जाता। इसके अलावा, आपके पास घर से निकलने के लिए भी क्यू आर कोड का होना आवश्यक है, इसके बिना कोई भी व्यक्ति कहीं नहीं जा सकता। आपको बता दें कि, क्यू आर कोड का मतलब क्विक रेस्पांस कोड होता है, जो कि चीन में कोरोना वायरस से उबरने के लिए हेल्थ कोड के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है।

चीन की सरकार मोबाइल तकनीक और आंकड़ों के मुताबिक, हर नागरिक को क्यू आर कोड के रूप में हेल्थ कोड प्रदान कर रही है, कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम करने में मदद मिलेगी। हालांकि, अभी चीन के कई शहरों में यह कोड अनिवार्य होना बाकी है, जो कि जल्द ही कर दिया जाएगा।

चीनी सरकार ने देश की दो डिजीटल और सॉफ्टवेयर दिग्गज कंपनी अलीबाबा (Alibaba) और टेंसेंट (Tencent) से मदद मांगी। अलीबाबा की पेमेंट एप अलीपेय (AliPay) औऱ टेंसेंट की मैसेंजिंग एप वीचैट (WeChat) को चीन में लाखों लोगों द्वारा इस्तेमाल किया जाता है, इसलिए इन एप पर हेल्थ कोड देने से सभी नागरिक इसका उपयोग कर पाएंगे। अलीबाबा ने सबसे पहले अपने मुख्य कार्यालय वाले शहर हांग्जो में यह हेल्थ कोड 11 फरवरी को लॉन्च किया था। वहीं, वीचैट ने भी फरवरी की शुरुआत में अपने मुख्य कार्यालय वाले शहर शेन्जेन में कोरोना की लड़ाई में क्यू आर कोड लॉन्च किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »