बुर्ज खलीफा से भी ऊंची इमारत बन कर हो रही है तैयार

जैसा कि हम पूरी तरह से जानते हैं, पश्चिम एशिया के दो शिखर दुनिया की सबसे ऊंची संरचना में बदलने के लिए आंदोलित हैं। दोनों पिनाकल्स को 2020 से पहले अपने विकास को खत्म करने की जरूरत है। यानी, चार साल बाद, दुनिया की सबसे ऊंची संरचना का ताज बुर्ज खलीफा से अलग करने की तैयारी है, जो 830 मीटर ऊंचा है।

मैं आपको बता दूं कि बुर्ज के खिलाफ चुनौती देने के लिए प्राथमिक शिखर द टॉवर है, जो दुबई के क्रीक हार्बर में स्थित है। इसे 938 मीटर ऊंचा बनाने की व्यवस्था चल रही है। इसका विकास अभी शुरू हुआ है, जिसे एम्मार बना रहा है। इसे बनाने में लगभग 65 बिलियन रुपये का खर्च आएगा। द टावर ऑफ क्रीक हार्बर का दुबई में ऑब्जर्वेशन सेंटर पर 360 डिग्री का परिप्रेक्ष्य होगा। इसी तरह इसकी ऊंची मंजिलों और घरों और घरों में रहने के लिए बगीचे होंगे।

इस मौके पर कि दुबई क्रीक हार्बर सबसे ऊंची संरचना है, उस समय इसे चार साल के अंदर काम किया जाना चाहिए। इसके पीछे का उद्देश्य वर्ष 2020 में है, सऊदी अरब के जेदाह टॉवर को इसी तरह तैयार किया जाएगा। जेद्दाह टॉवर दुबई क्रीक हार्बर टॉवर से 72 मीटर ऊँचा होगा जो दुबई से घिरा हुआ है।

जो कि एक किलोमीटर से 8 मीटर और ऊंचा शिखर है। इसका विकास 2013 में शुरू हुआ जब इसे किंगडम टॉवर नाम दिया गया। यह 2018 में समाप्त होना चाहता था, फिर भी इसे दो साल के स्थगन के साथ तैयार किया जाएगा। जहां तक ​​योजना है, ग्रह पर इसके जैसा कोई दूसरा शिखर नहीं होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »