30 की उम्र के बाद महिलाओं को रखना चाहिए इन बातों का विशेष ध्यान

घर और बाहर के कार्यों के बीच संतुलन बनाना आसान बात नहीं है लेकिन महिलाएं इसे बहुत अच्छे से करती आ रही हैं। लेकिन क्या इस संतुलन के चक्कर में वे अपने स्वास्थ्य को भूल गई हैं? क्या आप भी उन महिलाओं में से एक हैं जो महत्वपूर्ण मीटिंग के लिए नाश्ते को छोड़ देती हैं? क्या आप दोपहर के भोजन के दौरान अपने कार्ब, प्रोटीन और वसा का सेवन अच्छे से कर रही है? ये छोटी चिंताएं हैं जिनका आप पर 20 की उम्र में कोई खास अंतर नहीं पड़ता है लेकिन ये आपको 30 के बाद परेशान कर सकती हैं। 30 की उम्र के बाद महिलाओं को किन बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए –

महिलाओं को वजन घटाने के लिए करना चाहिए फाइबर का सेवन –
नूट्रिशनिस्ट शिल्पा अरोड़ा कहती हैं, “जब आप 30 की उम्र में प्रवेश करते हैं तो उच्च फाइबर खाद्य पदार्थ रक्त शर्करा के स्तर और चयापचय को नियंत्रित करने के लिए आवश्यक हो जाते हैं। लगातार वजन बढ़ने के विषय में वह सुझाव देती है कि फलों और सब्जियों के साथ समृद्ध आहार और संसाधित भोजन और संतृप्त वसा का कम सेवन वजन को काम करने के लिए 30 में महिला के लिए जरूरी है।”

महिलाओं के लिए हार्मोन संतुलन डाइट प्लान हैं जरूरी –
यह एक तथ्य है कि जब आप अपने 30 के दशक में पहुँचती हैं तो आपके हार्मोन के कार्यों में भारी बदलाव आता है। डॉ अरोड़ा कहती हैं, “महिलाओं को अश्वगंधा, तुलसी और माका पाउडर आदि का सेवन करना चाहिए। ये हार्मोन का स्तर बनाए रखने में सहायता करते हैं। चेस्टबेरी एक और फल है जो हार्मोन को संतुलित करता है। “वह यह भी कहती हैं कि थाइरोइड डिसफंक्शन के जोखिम की जांच के लिए, आयोडीन स्तर पर नजर रखना आवश्यक है।”

एनर्जी के लिए महिलाओं को खाना चाहिए आयरन रिच फूड –
नूट्रिशनिस्ट शिल्पा का कहना है कि लोहे के समृद्ध खाद्य पदार्थों का सेवन ऊर्जा के लिए भी जरूरी है, जो एक अन्य चिंता का विषय है जो आमतौर पर एक महिला को प्रभावित करता है। क्या आप जानते हैं कि महिलाओं को प्रत्येक माहवारी के साथ आयरन खोना पड़ता है? इसलिए बच्चे के जन्म के दौरान, उन्हें अपने आहार में इसे वापस लाना होगा। एनीमिया का सबसे आम प्रकार शरीर में लोहे की कमी से पैदा होता है। इस प्रकार की एनीमिया केवल लोहे के समृद्ध पदार्थ जैसे सेम, मटर, कद्दू के बीज, हरी सब्जियां, लाल मांस, मुर्गी और किशमिश के सेवन के साथ पूरी की जा सकती है।

गर्भावस्था के लिए महिलाएं खाएँ फॉलेट से भरपूर खाना – W
जैसे की कई महिलाएं 30 के बाद गर्भ धारण करने की योजना करती है तो उनके लिए आयरन और फोलेट सामग्री और अधिक जरूरी हो जाती है। फॉलेट एक विटामिन महिला है जिसे किसी भी जन्म के दोषों को रोकने के लिए बहुत अधिक आवश्यकता होती है।

आप अपने फोलेट के स्तर को बढ़ा सकते हैं। बीन्स के एक कप में 200 से 300 माइक्रोग्राम फोलेट होते हैं। फोलेट डीएनए का उत्पादन करने और नए स्वस्थ कोशिकाओं के निर्माण में मदद करता है। अपने फोलेट सेवन को बढ़ाने के अन्य तरीके हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे पालक और खट्टे फल हैं।

महिलाओं को हड्डियों के लिए ज़रूरी हैं कैल्शियम का सेवन –
इसके अलावा प्रमुख स्वास्थ्य चिंताओं में से एक है हड्डियों का कमजोर होना है। हां, यह एक बड़ी समस्या है जो आमतौर पर वृद्ध महिलाओं से जुड़ी होती है लेकिन अब यह समस्या 30 के बाद वाली महिलाओं को भी प्रभावित करती है। जैसा कि आप बूढ़े होते हैं, आपके एस्ट्रोजन का स्तर घटता है, जो बदले में आपकी हड्डी-घनत्व को प्रभावित करता है। इसलिए इस समय में विटामिन डी के साथ कैल्शियम सेवन आवश्यक हो जाता है। महिलाओं को 1000 मिलीग्राम कैल्शियम की जरूरत होती है। कैल्शियम के अच्छे स्रोतों में दूध, दही, चिया बीज, पनीर, ब्रोकोली, बादाम इत्यादि शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »