एक ऐसा क्रिकेटर, जिसने शहर से बाहर मारा था सिक्सर,जानिए इनके बारे में

आपको क्रिकेट खेलना जरूर पसंद होगा और ऐसे लोगो को क्रिकेट के बारे में बहुत जानकारी होती है | लेकिन हम आपको एक ऐसे क्रिकेटर के बारे में बताने जा रहा हु जिसके बारे में आपको नहीं मालुम होगा तो चलिए जानते है , कौन है वो क्रिकेटर | 

३१ अक्टूबर, २०१९ को भारत के पहले कप्तान कोतारी कनकय्या नायडू इनकी १२४ वीं जयंती मनाई है | और इन्हे सीके नायडू के नाम से भी जाना जाता है। नायडू जी का जन्म ३१अक्टूबर , १८९५ को नागपुर में हुआ था।

१९५९ में, उन्होंने भारतीय टीम के पहले टेस्ट में भारत का नेतृत्व किया। उसी मैच में, उन्होंने मैदान में खेलना जारी रखा और हाथ में चोट लगने के बावजूद पहली पारी में ४० रन बनाए। विशेष रूप से दाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने भारत में ३७ साल की उम्र में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया।

३१ अक्टूबर को हुआ था सीके नायडू का जन्म : –

इस प्रकार वह पहले मैच में भारत के कप्तान बने और यह टीम इंडिया का पहला टेस्ट मैच था। उस समय केवल टेस्ट मैच थे, और यह टेस्ट मैच बहुत बार नहीं हो रहे थे । नायडू ने चार साल तक टेस्ट क्रिकेट खेला, नायडू ने भारत के लिए केवल सात टेस्ट खेले। उन्होंने २५ की औसत से ३५० रन बनाए। उन्होंने अपने टेस्ट करियर में ३ विकेट लिए। इसके बाद नायडू फर्स्ट क्लॉज क्रिकेट में लौटे और कई वर्षों तक यहां खेले। बल्लेबाज ने २०७ प्रथम श्रेणी मैच खेले और ३५.९४ की औसत से ११,८२५ रन बनाए हैं। उन्होंने २६ शतक और ५८ अर्द्धशतक बनाए हैं। नायडू जी ने भी ऑफ ब्रेक गेंदबाजी भी की थी और ४११ विकेट भी लिए थे।

६८ वर्ष की आयु में अंतिम क्रिकेट मैच: –

अपने सीमित टेस्ट करियर के बावजूद, नायडू दुनिया के उन क्रिकेटरों में से एक हैं जिन्होंने लंबे समय तक क्रिकेट खेला है। नायडू ६८ वर्ष के थे, जब उन्होंने अपना अंतिम मैच खेला था। ये अपने आप में एक बड़ी बात है |

अपनी सेवानिवृत्ति से पहले, नायडू जी ने प्रथम श्रेणी में कई रन बनाए। १९२९ में मैरीलेबोन क्रिकेट क्लब ने भारत का दौरा किया तब नायडू जी ने एक शानदार पारी खेली। उन्होंने ११६ मिनट में १५३ रन बनाए। नायडू जी ने अपना पहला प्रथम श्रेणी मैच १९-३ सीज़न में ६८ साल की उम्र में खेला था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »