95 % लोगो को नहीं पता होगा भारत के तिरंगे के बारे में यह बातें

आपको बता दें कि जब तिरंगे को किसी मृत शरीर को पर डाला जाता है तो उस तिरंगे को दोबारा फहराया जाता है उसके बाद उसे पूरे सम्मान के साथ या तो जला दिया जाता है या पत्थर बांध का जल समाधि में दे दी जाती है.

स्क्वाड्रन लीडर संजय थापर ने पहली बार 21 अप्रैल 1996 के दिन तिरंगे की शान बढाते हुए एम. आई.-8 हेलिकॉप्टर से 10000 फीट की ऊंचाई से कूदकर देश के झंडे को उत्तरी ध्रुव में फहरा

आपको बता दें कि भारत का राष्ट्रीय ध्वज सबसे पहले ऊंचाई पर 29 मई 1953 को माउंट एवरेस्ट की चोटी पर राय गया था.

बता दें कि आपको बता देगी सबसे बड़ा मानव तिरंगा वर्ष 2014 में 50,000 स्वयंसेवकों द्वारा चेन्नई में बनाया गया था.

आजाद देश में लाल किले से तिरंगे झंडे को सर्वप्रथम नेहरू ने 16 अगस्त 1947 में फहराया था

राष्‍ट्रपति भवन के संग्रहालय में एक छोटा सा तिंरगा रखा हैै जिसे सोने के स्‍तंभ पर हीरे जवाहरात से बनाया गया है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »