8 साल -से -बेरोजगार -थे -तारक- मेहता- का -उल्टा -चश्मा के अब्दुल लेकिन -आज दो रेस्टोरेंट -के मालिक हैं।

तारक -मेहता -का उल्‍टा -चश्‍मा’- टीवी -का -सबसे -पॉपुलर सीरियल- है। शो में- हर -किरदार -अपनी -अनूठी -अदाकारी से -लोगों को -खूब हंसाते है। -यह -शो 28 जुलाई 2008 को शुरू हुआ था। शो में- अब्दुल यानी -शरद सांकला का किरदार लोगों -को खूब पसंद है। शरद ने 35 से ज्यादा फिल्मों में भी -काम किया है, लेकिन -इसके बाद भी वो 8 साल तक- बेरोजगार थे।

लेकिन -तारक मेहता -सीरियल को साइन करने के उनकी जिंदगी -बदल गई। इसके बाद -उन्होंने पीछे -मुडकर नहीं देखा। शरद ने अपनी पहली फिल्म 1990 में ‘वंश’ से इंडस्ट्री में कदम रखा था। इस -फिल्म में शरद- ने ‘चार्ली चैप्लिन’ की भूमिका अदा की थी। इस फिल्म में -शरद को 50 रुपए प्रति दिन के -मिलते थे।

मुझे -सरवाइव- करना था तो असिस्टेंट -डायरेक्टर, कोरियोग्राफर -और कास्टिंग डायरेक्टर के- तौर पर मैंने काम करना -शुरू किया। कुछ -कैमियो भी किए। लेकिन -बड़ा कुछ -नहीं मिला। फिर -मैंने ‘-तारक- मेहता…’ ज्वॉइन- किया और- फिर- मुड़कर -नहीं -देखा।

इसके- बाद शरद -खिलाड़ी, -बाजीगर -और -बादशाह जैसी कई बड़ी -फिल्मों में -भी नजर आए। लेकिन -इसके बाद शरद 8 सालों- तक जॉबलेस रहे। शरद -ने एक -इंटरव्यू में बताया -था कि इन -आठ सालों- में मैं -अपना पोर्टफोलियो लेकर प्रोड्यूसर्स के दरवाजे खटखटाता फिरता था। नाम होने के बावजूद काम नहीं मिला मुझे।

शरद ने -बताया कि शुरुआत- में मैं महीने -में 2-3 दिन -शूट करता था। लेकिन -कैरेक्टर पॉपुलर हो गया और लोग मुझे शरद न सही अब्दुल के रूप -में जानने लगे। कभी 50 रुपए कमाने वाले -शरद को -आज तारक शो के लिए 35 से 40 हजार रुपए -मिलते हैं। उनका -खुद का -मुंबई में घर है और उनका दो- रेस्टोरेंट भी है, जो मुंबई में है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »