786 नंबर का क्या रहस्य है? इस्‍लाम में 786 अंक शुभ क्‍यों माना जाता है ? जानिए

इस्लाम में 786 का बहुत महत्व होता है. क्रेज़ इतना है कि हर कोई इस अंक के नोंटों को इकठ्ठा करता है और अपने पर्स में ज़रूर रखता है. कुछ लोग तो गाड़ी भी इसी नंबर की लेते हैं.

इस्लाम में ये विश्वास है कि 786 को स्मरण करने से सभी कामों में बरकत होती है

इस्लाम में 786 का बहुत महत्व
इस अंक को बिस्मिल्ला का रूप माना जाता है
बिस्मिल्ला अल रहमान अल रहीम’ का योग है 786
अमिताभ बच्चन की फिल्म ‘दीवार’ और ‘कुली’ में आपको 786 अंक का कनेक्शन तो याद होगा. इन दोनों ही फिल्म में आपको इस नंबर की काफी अहमियत दिखाई गई है. वो इसीलिए क्योंकि इस्लाम में 786 का बहुत महत्व होता है. क्रेज़ इतना है कि हर कोई इस अंक के नोंटों को इकठ्ठा करता है और अपने पर्स में ज़रूर रखता है. कुछ लोग तो गाड़ी भी इसी नंबर की लेते हैं. इस्लाम में ये विश्वास है कि नंबर को स्मरण करने से सभी कामों में बरकत होती है.

इसे पीछे की वजह ये है कि हर मुस्लिम इस अंक को बिस्मिल्ला का रूप मानता है. ऐसा माना जाता है कि अरबी या उर्दू में ‘बिस्मिल्ला अल रहमान अल रहीम’ को लिखेंगे तो उसका योग 786 आता है. इसीलिए इस अंक को इस्लाम मानने वाला हर व्यक्ति पाक मानता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »