45 सेकंड तक माथे की बिंदी लगातार दबाए,फिर देखिए कमाल

आज के दौर में भी बहुत से लोग ऐसे हैं जो सिर्फ दवाइयों पर ही जीते हैं। इसका सबसे बड़ा कारण है गलत खान-पान और लोगों की कम मेहनत। वैसे, यदि दवाओं के स्थान पर योग और एक्यूप्रेशर का उपयोग किया जाता है, तो निश्चित रूप से आप हर बीमारी से सुरक्षित रहेंगे। यदि एक ही उपचार एक्यूप्रेशर की मदद से बिना दर्द के किया जाता है, तो यह सर्जरी के उपचार की तुलना में आपके स्वास्थ्य के लिए अधिक अच्छा होगा।

 एक्यूप्रेशर का कोई साइड इफेक्ट नहीं है और इससे कोई समस्या नहीं होती है। यद्यपि एक्यूप्रेशर के उपचार में समय लगता है, लेकिन यह इसके अच्छे प्रभाव को भी दर्शाता है। हां, ये उपचार सर्जरी के बाद अपना असर नहीं दिखा पा रहे हैं। ऐसी स्थिति में, प्रत्येक रोगी को एक्यूप्रेशर के उपचार के दौरान धैर्य रखना चाहिए। यदि आप इस उपचार को जीवन के लिए अपनाते हैं, तो आप हमेशा के लिए बीमारियों से सुरक्षित रहेंगे।

 इसलिए आज हम आपको एक्यूप्रेशर का एक ऐसा प्रसिद्ध उपचार बताने जा रहे हैं, जो आपके लिए बहुत उपयोगी होगा। इसके अलावा, इस उपचार के बारे में जानने के बाद, आप निश्चित रूप से अपने मन में धन्यवाद कहेंगे। वैसे भी आजकल हर कोई तनाव के कारण परेशान है। एक छोटा बच्चा भी जो स्कूल जाता है, इन दिनों चिंता में रहता है। ऐसे में हम आपको इस तनाव को कम करने का एक तरीका बता रहे हैं।

 यह ध्यान दिया जाना है कि इस उपचार के लिए, सबसे पहले, आपको अपनी तर्जनी को अपनी भौहों के बीच यानी आइब्रो के बीच में रखना होगा। इसके बाद इस बिंदु को कम से कम 45 सेकंड के लिए फैलाना होता है। फिर थोड़ी मालिश करनी है। लेकिन ध्यान रखें कि इस बिंदु को जोर से न दबाएं। बता दे कि इस बिंदु को दबाने से शरीर का रक्त संचार बढ़ता है। दरअसल, माथे के इस बिंदु पर, वह मांसपेशी है, जो हमारी तनाव इंद्रियों से संबंधित है। ऐसे में उन्हें रगड़ कर तनाव दूर करें।

 इसलिए यदि आप केवल एक मिनट का समय लेकर सुबह और शाम यह काम करेंगे, तो आप हमेशा तनाव मुक्त रहेंगे। इसके अलावा, आप तनाव से संबंधित कई बीमारियों से भी बच जाएंगे जैसे नींद की कमी, अत्यधिक क्रोध, अचानक मूड बिगड़ना आदि। इसलिए इस काम को आज बिना सोचे समझे शुरू करें और तनाव को अपने जीवन से हमेशा के लिए बाहर निकाल दें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »