हैदराबाद में 375 ग्राम की बच्ची बनी दुनिया की सबसे छोटी बच्ची

आपने प्रीमिच्यूर बेबी या कम वजन के बच्चों के बारे में तो सुना होगा लेकिन हम आपको जिसके बारे में बताने जा रहे हैं वो अब तक की सबसे कम वजन वाली बच्ची है, जिसका नाम है रिद्धिमा, रिद्धिमा को प्यार से चेरी कहकर बुलाते हैं।

जी हां, हैदराबाद के एक परिवार में 4 महिने पहले जन्म लिया एक नन्ही परी चेरी ने जिसका जन्म का समय वजन मात्र 375 ग्राम। हैदराबाद के रेनबो चिल्ड्रेन हॉस्पिटल में इस दुनिया की सबसे छोटी बच्ची ने जिंदगी की जंग जीती।

मेडिकल रिपोर्ट के मुताबिक, जिन बच्चों का जन्म 500 ग्राम से कम होता है उनके जीवित रहने की संभावना 50 फीसदी से भी कम होती है पर इस बच्ची का जन्म के वक्त वजन 0.8 एलबीएस यानी सिर्फ 375 ग्राम था और इसकी लंबाई केवल 20 सेंटीमीटर थी, जो आसानी से किसी कि भी हथेली में समा सकती है।

चेरी का जीवित रहना किसी चमत्कार से कम नहीं है । देखा जाये तो यह जन्म कई तरह से चौंकाने वाला है पर रेनबो चिल्ड्रेन हॉस्पिटल के डॉक्टरो ने असम्भव को सम्भव कर दिखाया है। चेरी की मां निकिता चैरी के पैदा होने से पहले 4 बार अबॉरशन करा चुकी थी। चेरी प्री- मैच्योर बेबी है।

डॉक्टरो का यह भी कहना है कि ऐसे बच्चों कि उम्र बहुत कम होती है या कम समय में ही उनकी मौत हो जाती है क्योंकि ऐसे बच्चों के शरीर का या तो कोई हिस्सा काम करना बंद कर देता है या फिर उन्हें कई तरह के इन्फेक्शन हो जाते हैं।

चेरी के डॉक्टर दिनेश कुमार का कहना है कि शरीर छोटा होने के कारण चेरी के लिये सबसे छोटी नली मंगानी पड़ी क्योंकि उसे सांस लेने और सुनने में दिक्कत हो रही थी। खैर चेरी एकदम खुशी-खुशी अपने माता पिता के साथ हैदराबाद में रह रही है और चेरी के परिवार वाले बेहद खुश है अपनी अद्भुत सी बिटिया के साथ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »