हार्ट अटैक खतरे को कम करने के लिए मछली अखरोट सोयाबीन और बादाम खाये

अगर आप दिल की बीमारी से बचना चाहते हैं या दिल का दौरा पड़ने के बाद मौत के खतरे को कम करना चाहते हैं तो मछली, नट्स, सोयाबीन और नट्स खाएं। ऐसे खाद्य पदार्थ हृदय को स्वस्थ रखते हैं। वैज्ञानिकों ने भी इसकी पुष्टि की है। अमेरिकन कॉलेज ऑफ कार्डियोलॉजी में प्रकाशित शोध के अनुसार, हर दिन आहार में ओमेगा -3 आइसोसा-पेंटानोइक एसिड और अल्फा-लिनोलेइक एसिड युक्त खाद्य पदार्थ खाने से हृदय रोग का खतरा कम होता है।

हार्ट अटैक का सामना कर रहे 944 मरीजों पर शोध किया गया।

संयुक्त राज्य अमेरिका के शोधकर्ताओं के अनुसार, ओमेगा -3 इकोसा-पेंटानोइक एसिड और अल्फा-लिनोलेइक एसिड में दिल को सुरक्षित रखने में मदद करने वाले गुण होते हैं। अनुसंधान 944 गंभीर दिल के दौरे के रोगियों पर किया गया था। ये ऐसे मरीज थे जिनके दिल का एक प्रमुख धमनी ब्लॉक था।

रक्त के नमूने में ओमेगा -3 का स्तर देखा गया

शोधकर्ता डॉ। एलेक्स सला-विला के अनुसार, शोध के दौरान रक्त के नमूने लिए गए थे, जिसके दौरान 78 प्रतिशत पुरुषों को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। रक्त में ओमेगा -3 का स्तर देखा गया। वैज्ञानिकों ने पाया कि दिल के दौरे के समय ओमेगा -3 के उच्च स्तर वाले रोगियों की हालत गंभीर थी। जिन रोगियों में ओमेगा -3 आइसोसा-पेंटानोइक एसिड और अल्फा-लिनोलेइक एसिड की पर्याप्त मात्रा में अस्पताल में भर्ती होने की संभावना कम थी।

स्वस्थ हृदय के लिए इन चीजों का सेवन

शोध के अनुसार, आप अपने दिल को स्वस्थ रखने के लिए सामन, अलसी, अखरोट, सोयाबीन और नट्स खा सकते हैं। हार्ट अटैक अमेरिका में मौत का प्रमुख कारण है। हर 40 सेकंड में एक व्यक्ति की दिल का दौरा पड़ने से मृत्यु हो जाती है। 45 वर्ष से अधिक आयु के पुरुषों में, 36 प्रतिशत पुरुषों और 47 प्रतिशत महिलाओं को एक बार दिल का दौरा पड़ा है। अगर अगले पांच साल में ऐसा दोबारा होता है, तो वह मर जाएगा।

रिसर्च से पता चलता है कि कोरोना दिल को भी प्रभावित करता है

हृदय रोगी कोरोना के जोखिम क्षेत्र में पहले से ही मौजूद है लेकिन हृदय पर इसका प्रभाव ठीक होने के बाद भी बना रहता है।

वॉल स्ट्रीट जर्नल के अनुसार, कोरोना के रोगियों के हृदय पर गंभीर प्रभाव पड़ता है। संक्रमण के उपचार के दौरान, वे सांस की तकलीफ, सीने में दर्द जैसे लक्षण दिखा रहे हैं। दिल की कार्य करने की क्षमता पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है। यह प्रभाव लंबे समय तक रहेगा।
जर्नल ऑफ द अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन में प्रकाशित शोध के अनुसार, कोरोना से उबरने वाले 100 में से 78 रोगियों को हृदय की क्षति और हृदय की सूजन थी। शोध के अनुसार, जैसे-जैसे संक्रमण बढ़ता है, वैसे-वैसे भविष्य में दुष्प्रभाव का खतरा होता है।
ओहियो स्टेट ओहियो के शोध के अनुसार, हर 7 में से 1 व्यक्ति कोरोना से उबरने से दिल की क्षति से पीड़ित होता है। धीरे-धीरे यह फिटनेस को भी प्रभावित कर रहा है।
अपने दिल को स्वस्थ रखने के लिए यहां 5 बातें ध्यान रखने योग्य हैं।

भोजन साबुत अनाज और कम स्वाद वाले फल खाएं

गेहूं की रोटी के बजाय बाजरा, शर्बत या रागी या सभी का मिश्रण लें। आम, केले, छोले सहित कम स्वाद वाले फल खाएं। इसकी जगह पपीता, कीवी, संतरा सहित फल खाएं। तली हुई और निगल हुई चीजों का सेवन आप जितना कम करें, उतना अच्छा है। भूख लगने की तुलना में 20% कम खाना खाएं और हर 15 दिनों में अपना वजन जांचें।

वर्कआउट

45 मिनट व्यायाम या टहलना आवश्यक है।

सप्ताह में 45 मिनट 5 दिन व्यायाम करें। अगर आप वॉकिंग करते हैं तो भी असर दिखेगा। मोटापा दिल से संबंधित बीमारियों का एक प्रमुख कारण है। वजन जितना अधिक होगा, दिल से संबंधित बीमारियों का खतरा उतना ही अधिक होगा। फिटनेस को ऐसे लेवल पर लाएं कि सीधे खड़े होने से आपकी बेल्ट को बकल करते हुए देखा जा सके। अगर आप डेढ़ किलोमीटर की दूरी पैदल चलना चाहते हैं, तो चलिए।

लाइफस्टाइल

जल्दी सोने और जल्दी उठने की आदत बनाएं, 7 घंटे की नींद जरूरी है

हर रात कम से कम 7 घंटे की नींद लें। जल्दी सो जाना और जल्दी जागना दिनचर्या बना लें। 10 बजे बिस्तर पर जाने और सुबह 6 बजे उठने का आदर्श समय। यह शरीर को रात के चक्र में अधिक आराम करने की अनुमति देगा। तनाव से बचें, इसका मस्तिष्क और हृदय पर सीधा प्रभाव पड़ता है।

धूम्रपान-शराब:

आप अपने दिल के लिए बेहतर रहते हैं

धूम्रपान पूरी तरह से छोड़ दें। लगातार धूम्रपान करने से धमनियों का अस्तर कमजोर हो जाता है। इससे धमनियों में वसा जमा होने का खतरा बढ़ जाता है। इस तरह, अगर आप शराब से दूर रहते हैं, तो आपका दिल स्वस्थ रहेगा।

सोशल मीडिया:

दिल को स्वस्थ रखने के लिए अफवाहों से बचने की जरूरत है।

डॉ कहते हैं कि सोशल मीडिया और व्हाट्सएप संदेशों में कई तरह के दावे किए जाते हैं, जो आपके स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकते हैं। हार्ट के बारे में कई अफवाहें भी वायरल होती हैं। अगर हम दिन की शुरुआत 4 गिलास पानी से करते हैं, तो दिल की बीमारी का कोई खतरा नहीं है। इस प्रकार के संदेश से बचें और डॉक्टर। की सलाह का पालन करें। अन्यथा, यदि आप ऐसी अफवाहों पर ध्यान देते हैं, तो आपका स्वास्थ्य बिगड़ सकता है।

दिल की बीमारी दुनिया में मौत का प्रमुख कारण है

दिल की बीमारी दुनिया भर में मौत का प्रमुख कारण है। वर्ल्ड हार्ट फेडरेशन के अनुसार, दुनिया भर में 3 में से 1 मौत दिल की बीमारी के कारण होती है। इसके 80% मामले मध्यम आयु वर्ग के देशों में होते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »