हल्दीराम ब्रांड भारत में इतना फेमस कैसे हो गया उसके मालिक के बारे में आप कुछ बता सकते है ?

मैंने तिनके के सहारे पहाड़ बनाने की हिम्मत दिखाई, आज मैं तिनकों से बनी पर्वत श्रृंखला हो गया हूं’

ये लाइन हल्दीराम के ब्रांड चेन के लिए यूंहीं जबान से निकल गई। आपको बता दें कि हल्दीराम आज दुनिया के 50 से भी ज्यादा देशों में अपनी पहुंच रखता है। वो आज के समय में हिंदुस्तान के गली-गली मोहल्ले-मोहल्ले पर राज करता है। हमारे घरों के त्योहार इस हल्दीराम के बिना पूरे नहीं होते। हल्दीराम के बिना मानो ऐसा लगता हो जैसे कुछ अधूरा सा पीछे छूट गया हो।

हल्दीराम की शुरुआत वास्तव में ‘हल्दीराम’ के रूप में नहीं बल्कि बीकानेर की एक दुकान ‘भुजियावाले’ के नाम से शुरू हुई थी। साल 1937 की बात है, अभी आजादी को भी 10 साल बाकी थे। बीकानेर के गंगाविषण जी अग्रवाल ने एक छोटे से नाश्ते की दुकान खोली थी।

पिता भुजिया के काम में हाथ आजमाना चाह रहे थे

विषण जी अग्रवाल के पिता इस दुकान के जरिए भुजिया के काम में हाथ आजमाना चाह रहे थे। जैसा चाहा वैसा ही हुआ और देखते ही देखते पूरे शहर में विषण जी अग्रवाल के नाश्ते की दुकान ‘भुजियावाले’ के नाम से मशहूर हो गई।

इसके कई सालों बाद अपना बिजनेस आगे बढ़ाने के लिए हल्दीराम के बैनर तले दिल्ली में 1982 में उन्होंने अपनी एक दुकान खोली। हल्दीराम वास्तव में विषणजी का ही दूसरा नाम था। दिल्ली में एक के बाद दो दुकानें खोली गईं। अब बिजनेस आगे बढ़ने लगा था। धीरे-धीरे उन्होंने भारत के बाहर भी अपने प्रोडक्ट भेजने शुरू कर दिए। देखते ही देखते देश ही नहीं दुनिया के कई देशों में हल्दीराम के उत्पाद बिकने लगे। इसके पीछे की सबसे खास वजह थी उनके प्रोडक्ट की क्वालिटी।

2015 में अमेरिका ने प्रोडक्ट के आयात पर रोक लगा दी

सब कुछ ठीक-ठाक चल रहा था कि तभी 2015 में अमेरिका ने हल्दीराम के प्रोडक्ट के आयात पर रोक लगा दी। आरोप लगाया गया था कि इनके प्रोडक्ट में कीटनाशक की मात्रा है। बावजूद इन सब के हल्दीराम के बिजनेस पर बहुत ज्यादा असर नहीं पड़ा।

हल्दीराम का ऑपरेशन चार जोन में काम करता है। साल 2013-14 के बिजनेस की बात करें तो नॉर्थ इंडिया में हल्दीराम मैन्युफेक्चरिंग का रेवेन्यु 2100 करोड़ रुपए रहा। वेस्ट और साउथ इंडिया में हल्दीराम फूड्स की सालाना सेल 1225 करोड़ के आसपास रही वहीं ईस्ट इंडिया रीजन में हल्दीराम भुजियावाला के नाम से 210 करोड़ का व्यापार होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »