स्लिम करने वाली लौकी ले सकती है आपकी जान, पुणें में महिला की हुई मौत

पिज्जा-बर्गर को छोड़कर आप हेल्दी लाइफस्टाइल अपनाते हैं और कम फैट वाले खाद्य पदर्थों को अपनी दिनचर्या में शामिल करते हैं जैसे लौकी, पालक, कद्दू, तरोई आदि, लेकिन जब वही आपके लिए जानलेवा हो जाए तो आप क्या करेंगे। जी हां हाल ही में पुणे की एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर (गौरी शाह) ने जिस लौकी के जूस का एनेर्जेटिक ड्रिकं के रूप में पिया वो ही उसकी मौत का कारण साबित हुआ। डाक्टरों और गौरी के पति मयूर की मानें तो गौरी की मौत लौकी का जूस पीने से ही हुई।

इसके अलावा उन्होंने बताया कि गौरी को किसी भी तरह की कोई बीमारी नहीं थी वो केवल खुद को फिट रखने के लिए इसको प्रतिदिन पिया करती थी। एक दिन अचानक लौकी का जूस पीने के बाद उन्हें उल्टियां शुरू हो गई। लगातार उल्टी-दस्त के चलते उसे अस्पताल ले जाया गया जहां दो दिन तकउसकी हालत और बिगड़ती गई जिसके बाद उसने दम तोड़ दिया। डाक्टरों ने बताया कि उसने गाजर और लौकी का जूस मिलाया पिया था जिससे धीरे-धीरे उसकी तबियत बिगड़ी और ब्रेन हैमरेज के चलते उसकी मौत हो गई।

क्या कहते हैं आंकड़े-

इसके अलावा 9 जुलाई 2010 CSIR के डिप्टी सेक्रेटरी सुनील कुमार सक्सेना की लौकी का जूस पीने से मौत हो जाने की खबर भी सामने आई थी। बोतल बंद सब्जियों के जूस पीने की वजह से लोगों की मौत के बाद 2011 में ICMR ने बोतल बंद जूस को लेकर सख्त दिशा निर्देश जारी किए थे।

हरी सब्जियां खाने से पहले रखें इन बातों का ख्याल-

-लौकी, करेला, खीरा, मूली, पालक का स्वाद अगर बहुत तीखा लगे तो नहीं खाना चाहिए।

– सब्जियां अच्छे से पकाएं और उनका कड़वापन खत्म होने के बाद ही खाएं।

– आजकल बाजार में मिलने वाली हरी सब्जियों में काफी मात्रा में केमिकल पाए जाते हैं इसलिए पकाने से पहले सब्जियों को हल्के गरम पानी से धो लें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »