स्मार्टफोन कैमरे में अपर्चर क्या होता है?

अगर आप अपने स्मार्टफोन के कैमरा पे ध्यान से देखोगे तो वहा पर आपको एक छोटा से लेंस (Lens) दिखाई देगा या फिर कहलो कैमरा का सेंसर (Camera Sensor) दिखा दिया देगा वही पर आपको एक छोटा सा होल (Hole) यानि की छेद दिखाई देगा अगर आप ये चीज़ स्मार्टफोन के कैमरा में देखना चाहोगे तो सायद आपको अच्छे से न दिखे.

लेकिन अगर आपके पास डीएसएलआर कैमरा (DSLR Camera) और लेंस पड़ा है तो लेंस में ध्यान से देखा वह पर आपको आपको एक छोटा सा होल छेद दिखाई दे देगा या फिर कहले लेंस पे आपको एक छोटा सा दरवाजा लगा हुआ मिलेगा अब ये छेद या फिर कहलो दरवाजा है कितना खुला होगा या फिर कितना छोटा होगा यानि बंद होगा ये डिपेंड करता है अपर्चर वैल्यू (Aperture Valueअब ये अपर्चर वैल्यू (Aperture Value) क्या है ? तो कैमरा में जो F1.7 ,F2.0 ये जो वैल्यू है 1.7 या फिर 2.0 इन्हें हम वैल्यू कहते है और इस F से मापा जाता है जिसमे F का मलतब होता है फोकल लेंग्थ (Focal Length), तो हमेशा ध्यान रखना जो F वैल्यू है वो जितना कम है जो लेंस का दरवाजा है उतना ज्यादा खुला होगा और जो लाइट वो और ज्यादा अन्दर जा पायेगी.

चलिए इसे उधाहरण से समझते है आप फोटो में देख सकते है पहले वाले लेंस में जो अपर्चर वैल्यू है वो F1.7 तो ये जो वैल्यू है वो कम है तो आप देख जो पहले वाला का जो दरवाजा है वो ज्यादा खुला है या फिर कहलो जो छेद है वो बड़ा है दुसरे लेंस के दरवाजे को देखो जिसकी वैल्यू थोड़ी सी ज्यादा है F2.0 है तो देखिये जो छेद है वो थोडा सा छोटा होगा पहले के मुकाबले.

इसी तरह से अगर कैमरा में F वैल्यू ज्यादा होगी यानि की F8.0 होगी तो जो दरवाजा है वो और छोटा हो जायेगा यानि सिंपल मतलब है की जो F वैल्यू है जितनी कम होगी जो छेद है वो उतना बड़ा होगा और जो F वैल्यू जितनी ज्यादा होगी छेद उतना छोटा होगा.

अब यहाँ सवाल आता है आखिर अपर्चर कम या ज्यादा होने से क्या फरक पड़ता है कैमरा में तो देखियो जैसा की अगर छेद बड़ा यानि दरवाजा ज्यादा खुला तो जो रौशनी है लाइट है वो कैमरा में ज्यादा जा पायेगी जिसे आपको लो लाइट (Low Light) में भी फोटोज है वो और ज्यादा बढ़िया मिलेगी इसके अलावा कम अपर्चर होने का एक और फायदा ये है की आपको फोटोज में जो बुकेह इफ़ेक्ट (Bokeh Effect) बढ़िया देखने देखने को मिलेगा यानि डेप्थ ऑफ़ फील्ड )Depth of Field) बड़ा मिलेगा जिससे बैकग्राउंड में जो चीज़े है बेहतर तरीके से आपको ब्लर(Blur) मिलेगी और जो ऑब्जेक्ट है उसपे फोकस बढ़िया तरीके से देखने को मिलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »