सामन्य मेथी व कसूरी मेथी में क्या भिन्नता है?

हम आम तौर पर बाजार से जो मेथी की भाजी खरीद कर लाते हैं, वह कसूरी मेथी नही होती, जैसा कि इस प्रश्न के एक अन्य उत्तर मे एक बहन ने लिखा है।

बाजार मे बिकने वाली मेथी को सुखा कर आप उपयोग करेंगे तो आपको उचित सुगंध व स्वाद नही मिलेगा।

“कसूरी” एक अलग प्रजाति की अधिक सुगन्धित मेथी होती है, जिसे सुखा कर बेचने हेतु ही इसकी खेती की जाती है।

इस प्रजाति का मूल स्थान पाकिस्तान के पंजाब प्रांत का एक स्थान “कसूर” था, जो आजादी से पूर्व भारत का हिस्सा था। उसी के नाम पर इस प्रजाति का नाम “कसूरी मेथी” पडा।

इसके पौधों की ऊँचाई तकरीबन 3 फुट से 4 फुट तक होती है। इस की बढ़वार धीमी और पत्तियाँ छोटे आकार के गुच्छे में होती हैं। पत्तियों का रंग हल्का हरा होता है। फूल चमकदार नारंगी पीले रंग के आते हैं। फली का आकार 2-3 सेंटीमीटर और आकृति हंसिए जैसी होती है। बीज अपेक्षाकृत छोटे होते हैं।

भारत में कसूरी मेथी की खेती कुमारगंज, फैजाबाद (उत्तर प्रदेश) और नागौर (राजस्थान) में अधिक क्षेत्र में की जाती है। आज नागौर दुनियाभर में सब से अधिक कसूरी मेथी उगाने वाला जिला बन गया है।

अच्छी सुगन्धित मेथी नागौर जिले से ही आती है और यहीं पर यह करोबारी रूप में पैदा की जाती है और इसी वजह से यह मारवाड़ी मेथी के नाम से भी जानी जाती है।👇

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *