साइंस की दुनिया की लेसर लाईट अपने बच्चों को खेलने को देना बड़ी खतरनाक सोच है

साइंस और टेक्नॉलाजी की खोजें आज इतनी काबिल है कि वो आज हमे हर घर घर में देखने को मिल जाती है। और जो कि हमे काफी लुभाती रहती है, क्यों की हमने अभी जस्ट इस टेक्नोलॉजी के वर्ल्ड में एंट्री भर ही की हुई है। और दिन भर दिन हम ओर एडवांस होते जा रहे हैं। पर यहां एक बात है की हमारी टेक्नॉलॉजी जितनी अच्छी है ।उतनी ही घातक भी है ,जिहा अगर आप ये पढ़के घबरा गए हो तो में सही हूं । कीव के इतिहास गवा है , हमारी टेक्नॉलॉजी जितनी हमे मदद करती है उतनी ही नुकसान भी देती है ।

और में इसी टॉपिक पे बात करने वाला हूं।क्यों की बात यहां आपके मासूम बच्चो की आती है ,और हमारे आने वाले कल को बचाना हमारा धर्म है । दोस्तो द-रसअल यहां बात हो रही ही कुछ ऐसे डीवायस की जों की आप किसी मेले में , बाजारों में आप अपने बच्चो को एक साधारण सी लाईट समजके देते हो ।दोस्तो ये जो खेलने के लिए आने वाली लेसर लाईट होती है।वो आपको कुछ ६०रूपए में मिल जाती है ,मगर ये लेसर लाईट आपके बच्चो को कैंसर और बाकी ऐसी ऐसी खतर नाक बीमारी आपके बच्चो को दे सकती है, और हर मा-बाप अपने बच्चो को पालते है उनकी पर्वरिश करते है , बीमारी के हवाले करने के वास्ते नहीं ।

दोस्तो यहां जो लेसर लाईट आती है वो इतनी खतरनाक होती है कि वो आपके बच्चो ने गलती से भी उनके ब्रेन या फिर आंखो के किसी नाजुक जगा पर कुछ मिनट के लिए भी फोकस की । तोह उस जगा के इन्टरनल सेल्स मर सकते है, जों की आपके बच्चो को बेहोश भी कर सकता है । और अगर आंखो में इसे कुछ सेकंड के लिए भी फोकस कीया जाए तोह आपके बच्चों के आंखो की रोशनी भी जा सकती है। और कोईभी माबाप ऐसा कभी नहीं चाहेंगे ,और खास बात तो ये हैकी उस लेसर लाईट पर भी लिखा होता है ख़तरा ।

और ये सब बच्चो को पढ़ना नहीं आता आपको आता है ,इसलिए मेरा ये मेसेज उन सब के लिए है ,और कोई इसे पढ़ नहीं सकता तो आप उनेभी आगाह करे ताकि आपके बच्चे सुरक्षित हो जाए ।क्यों की वह खिलौना बनाने वाला और उसे बेचने वाला उनको इस बात से फरक नहीं पड़ेगा कि इस लाईट के वजह से किसी को नुकसान हो रहा है । उने उस समान को सिर्फ बेचना है, या फिर वो भी इस बात को नहीं जानते।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »