सरकार ने की नयी घोषणा, अब आईटी कर्मचारी 31 दिसंबर तक कर सकेंगे ‘वर्क फ्रॉम होम’

आईटी इंडस्ट्री की सरकार से मांग रही है कि उसके कर्मचारियों को स्थाई रूप से घर से काम करने की अनुमति दी जाए ताकि कंपनियां अपने रियल एस्टेट का अधिकतम इस्तेमाल कर सकें। साथ ही वे रिमोट वर्किंग और ऑफिस से काम करने का मिलाजुला मॉडल अपनाना चाहती हैं।

मंगलवार को सरकार ने इसकी घोषणा की है. बता दें कि घर से काम करने की समयावधि 31 जुलाई को समाप्त हो रही थी|

दूरसंचार विभाग ने ट्वीट में कहा, ”दूरसंचार विभाग ने कोविड-19 के कारण व्याप्त चिंता को देखते हुए घर से काम करने की सुविधा के लिए सेवा प्रदाताओं की खातिर नियम और शर्तों में छूट को 31 दिसंबर 2020 तक के लिए और बढ़ा दिया है।” 

सरकार के इस फैसले पर इंडस्ट्री ने खुशी जताई है। देश की दिग्गज कंपनी विप्रो के चेयरमैन रिशद प्रेमजी ने ट्वीट किया, सरकार के शानदार सपोर्ट के लिए धन्यवाद। पहले दिन से ही सरकार ने काम करने के नए तरीकों को सपोर्ट किया है। इससे दुनिया में हमारे स्टैंडिंग और रिस्पॉन्सिवनेस बढ़ाने में काफी मदद मिली है।

वर्तमान में, IT कंपनियों के लगभग 85 प्रतिशत कर्मचारी घर से काम कर रहे हैं और केवल अति महत्त्वपूर्ण कार्य करने वाले कर्मचारी ही जा रहे हैं|दफ्तर केवल वे ही लोग जा रहे हैं, जिनका जाना बहुत जरूरी है|

नैसकॉम के अध्यक्ष देवयानी घोष ने ट्वीट किया, ‘रविशंकर प्रसाद और टेलीकॉम डिपार्टमेंट के सेक्रटरी को आईटी इंडस्ट्री का सपोर्ट करने के लिए धन्यवाद। इससे बिजनस कम्युनिटी और कर्मचारियों की सेफ्टी सुनिश्चित होगी। साथ ही दूसरी और तीसरी श्रेणी के शहरों में हमारा टेलेंट पूल बढ़ेगा।

भारत में कोरोना वायरस की खतरनाक रफ्तार देखने को मिल रही है. मंगलवार तक कोरोना के 11.55 लाख से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं, जबकि 28,084 लोगों की मौत हो चुकी है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »