शहर में फ्लैट खरीदते समय किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?

आपको क्या देखना है? 20% सूरज की रोशनी आपके घर में पहुंच रही है। क्या बालकनी में या फिर बेड रूम में या हॉल में 20% सूरज की रोशनी मिलनी चाहिए और प्लेट ले रहे हो तो 14 – 24 माले की बिल्डिंग है या 50 माले की बिल्डिंग है तो आप हो 7th फ्लोर के ऊपर ही ले ताकि लिफ्ट बंद हो जाए तो रिफ्यूजी कैंप होता है। वहां से आप जा सकते आपको और ऊपर चाहिए तो आप देख लो सुविधा के साथ ले सकते हो। अगर यदि आपका पूरा complex बहुत बड़ा है। नीचे जो भी फंक्शन उसकी आवाज से डिस्टर्ब हो गए। इसके लिए आपका की आवाज कम आए।

दुनिया में 89 परसेंट विटामिन डी की कमी के कारण बहुत सारी बीमारियां हो रही है। इसलिए सूरज की रोशनी घर तक पहुंचना चाहिए और कीटाणु भी मारते हैं, सूरज की रोशनी अगर घर में आती है तो आपको बहुत फायदा ही फायदा है। यदि आपने सातवें माले के ऊपर लेते हो तो मच्छर का भी कम रहेगा और कंपलेक्स बहुत बड़ा है तो फंक्शन होते। उसकी आवाज 7 floor के बाद बहुत कम आते हैं तो अब डिस्टर्ब नहीं होगी। यदि आपने कुत्ते बिल्ली कुत्ते तो भोंकते हैं तो उसके बाद बहुत कम आएंगे।

Terrace का नीचे वाला फ्लैट कभी नहीं लेना है। अब ग्राउंड से ऊपर लेना है। ग्राउंड फर्स्ट फ्लोर छोड़ देना के ऊपरी लेना है।

ग्राउंड का फ्लैट और फर्स्ट floor लेने में नुकसान यह है कि कई तरह के लोग बिल्डिंग में घूमते हैं तो महिलाएं हैं तो आं सुरक्षित महसूस करेंगे। इसलिए बोल रहा हूं। सूरज की रोशनी से कपड़े सुखा सकते हैं। यह तकिया पिल्लो को धूप में सुखाकर आप मुझे कीटाणु मार सकते हैं।

आपको शोरगुल से परेशानी होती है तो आप ध्यान रखें। दिवाली में पटाखे फोड़ते हैं। दशहरे में ढोल बाजे बसते हैं। गणपति में भी गाना बजाना लाउडस्पीकर बसते हैं तो ध्यान रखें फ्लैट ले।

Balcony windos साइज हमेशा बड़ी ही ले ले ले। बड़ी साइज लेने से आपको हवा ताजा भी मिलेगी। लाइट बिल भी कम आएगा। Fan की जरूरत नहीं पड़ेगी। Khidki की साइज हमेशा ही बड़ी होनी चाहिए।

बिल्डिंग में फ्लैट में शहर में लिफ्ट ज्यादा बंद होती है। मतलब खराब जल्दी होती है तो लिफ्ट का भी ध्यान रखें। तीसरे फ्लोर पर ले ताकि आप शिरडी से उतर चलता है या 7 के बाद ले तो रिफ्यूजी कैंप से आप लिफ्ट दूसरे बिल्डिंग से wing से यूज कर सकते हो।

फ्लैट लेते समय आप 10 दिन तक इंक्वायरी करे water leakage का प्रॉब्लम तो नहीं है। पानी का शॉर्टेज तो नहीं है बिल्डर और लोग नहीं बताते हैं।

जिस फ्लोर पर भी लेते हो आप इंक्वायरी कर लो कि वहां के लोग फैमिली वाले होने चाहिए।

कि आप लोग तो समझदार हो, इंक्वायरी जो कर लोगे लेकिन सूरज की रोशनी का जरा ध्यान रखना और मच्छर का और शोर-शराबे का आवाज से परेशानी है तो आप ध्यान रखें जाकर 10 15 दिन चेक कर रहे बिल्डर को या मालिक को बोले, तो आपको समझ में आ जाएगा। मैं क्या समझा रहा

बिल्डिंग में बोरवेल मतलब कुए की सुविधा रहता की पानी की शॉर्टेज ना रहे और Toilet संडास में दो water पाइपिंग होना चाहिए।

क्योंकि फ्यूचर में पानी की शॉर्टेज होने वाली है। कम होने वाली है इसलिए पानी का ज्यादा ध्यान रखें। मैं तो पानी नहीं आएगा तो आपको इतना महंगा flat लेकर भी कुछ फायदा ना हो गया। पानी का सबसे पहले

बिल्डिंग में जो पहले से रह रहा है उन से पता करें कि दीवारों में सीलन तो नहीं पड़ती। पपड़ी तो नहीं पड़ती है। मैं तो आपको हर साल आपको सलाम आना पड़ेगा। 15000 से 20000 का खर्चा आएगा। यह सबसे बड़ा नुकसान है। हमेशा घर में dhool matti होते रहेगा। सीलन पड़ेगा तो नुकसान ही नुकसान है। चार-पांच लोग से पूछ ले जाते।

यदि न्यू बिल्डिंग है तो आपको जो पुरानी बिल्डिंग हो गई है। आजू बाजू के वहां से पता कर ले नहीं तो दो-चार एजेंट के सहारे से पता करने की पपड़ी नहीं पड़ता है।

यदि आपके घर में बच्चे हैं तो प्लेग्राउंड होना चाहिए। ध्यान रखें और ताकि ग्राउंड होने से आपको वाकिंग जंपिंग एक्सरसाइज करने में आसानी होगा। आपको कहीं बाहर जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

जो आजू-बाजू पेड़ पौधे ज्यादा होने चाहिए ताकि आपको ऑक्सीजन कमी की वजह से बहुत सारी बीमारियां होती हैं। हम लोग दिनभर ऑफिस में काम करने जाते हम ऑक्सीजन नहीं मिलता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »