विष्णु जी का व्रत गुरुवार को इस प्रकार रखें, इन बातों का ध्यान रखें

विष्णु जी व्रत विधान श्रीहरि विष्णु को वैदिक काल से ही दुनिया की सर्वोच्च शक्ति और नियंत्रण के रूप में माना जाता है। हिंदू धर्म ग्रंथों में, विष्णु भगवान के तीन मुख्य रूपों में से एक है।

 विष्णु जी व्रत विधान: वैदिक काल से, श्रीहरि विष्णु को दुनिया की सर्वोच्च शक्ति और नियंत्रण के रूप में माना जाता है। हिंदू धर्म ग्रंथों में, विष्णु भगवान के तीन मुख्य रूपों में से एक है। पुराणों में विष्णु को संसार का पालनहार माना जाता है। पुराणों के अनुसार, विष्णु की पत्नी लक्ष्मी हैं। उनका बेटा कामदेव है। साथ ही उनका निवास स्थान क्षीर सागर है। विष्णु की नींद शेषनाग के ऊपर है। ऐसा माना जाता है कि विष्णु की नाभि से कमल उत्पन्न होता है। भगवान ब्रह्मा इस कमल में स्थित हैं।

 अधिक मास चल रहा है। आज अधिक मास का पहला गुरुवार है। आज का दिन श्रीहरि विष्णु को समर्पित है। गुरुवार को विष्णु की पूजा की जाती है। बता दें कि अधिमास का सूजर विष्णु भी है। ऐसे में, अगर आप आज उपवास कर रहे हैं, तो इस लेख में हम आपको गुरुवार का व्रत कैसे करना चाहिए, इसकी जानकारी दे रहे हैं।

 इस गुरुवार व्रत को करें:

 व्रत के दिन सुबह उठकर विष्णु का नाम लें और व्रत का संकल्प करें। सच्चे मन से विष्णु जी का व्रत 7 गुरुवार तक करने से भक्तों की मनोकामना पूरी होती है।

 हर गुरुवार को श्रीहरि की पूजा करें और फिर गुरुवार की व्रत कथा सुनें।

 इस दिन केवल पीले कपड़े ही पहनें।

 विष्णु जी को पीले फल चढ़ाएं। इस दिन केले का प्रसाद बहुत शुभ माना जाता है।

 गुरुवार का व्रत करते समय दिन में केवल एक बार भोजन करना चाहिए। इस दिन बिना नमक का पीला भोजन करना चाहिए। इस दिन चने की दाल का प्रयोग शुभ होता है।

 शाम को कहानी सुनें, और उसके बाद ही भोजन लें।

 इस दिन कपड़े धोने की अनुमति नहीं है। साथ ही, बाल या दाढ़ी बनाना भी वर्जित माना जाता है।

 उपवास के दिन किसी भी व्यक्ति का उपहास नहीं किया जाना चाहिए। सेवा से पुण्य कमाना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »