वास्तु टिप्स: अपने घर के लिए ताला चुनते समय यहां ध्यान रखने योग्य बातें हैं

 वास्तु शास्त्र का हमारे जीवन में एक विशेष महत्व है। इसकी मदद से हम कई संकटों से बच सकते हैं। अपने घर के लिए ताले चुनते समय वास्तु की मदद लेनी चाहिए ताकि चोरी और डकैती का डर भी आपसे दूर रहे।

 यहां ध्यान रखने योग्य बातें हैं:

 घर की उत्तर दिशा में पीतल का ताला लगाना बहुत अच्छा माना जाता है। यदि आप इस दिशा में एक और धातु का ताला लगाते हैं, तो उस पर पीतल जैसा सुनहरा रंग होने से आपको अच्छा लाभ मिल सकता है।

 वास्तु के अनुसार, दक्षिण की ओर पांच धातु के ताले से घर की रक्षा की जाती है। यदि पांच धातु के ताले आसानी से नहीं मिलते हैं, तो आप ताले को एक लाल या चीरा कपड़ा भी बाँध सकते हैं। यह आपके घर को पूरी सुरक्षा भी देगा।

 वास्तु के अनुसार, पूर्व को सूर्य की दिशा माना जाता है। सूर्य और तांबे का एक विशेष संबंध है। यदि घर का मुख्य दरवाजा पूर्व दिशा में है, तो दरवाजे को तांबे से बंद करना बहुत अच्छा माना जाता है। यह डकैती के जोखिम को कम करता है।

कैलेंडर को यहां नहीं रखा जाना चाहिए:

 # वास्तु शास्त्र के अनुसार, कैलेंडर हमेशा उत्तर, पश्चिम या पूर्व की दीवार पर लगाना चाहिए। इसी समय, कैलेंडर में किसी भी हिंसक जानवरों की तस्वीरें नहीं होनी चाहिए। वे घर में नकारात्मकता लाते हैं।

 # उत्तर की ओर, एक ही कैलेंडर में हरियाली, नदी, समुद्र, शादी आदि की तस्वीर रखें। पश्चिम दिशा को प्रवाह की दिशा माना जाता है। इस दिशा में कैलेंडर सेट करने से आपका कार्यभार शुरू हो जाएगा।

 # कैलेंडर को दक्षिण की ओर ले जाना प्रगति को रोक देता है, क्योंकि यह कैलेंडर समय का संकेत है। इस दिशा में कैलेंडर लगाने से घर के मुखिया के स्वास्थ्य पर भी असर पड़ता है।

 # वास्तु शास्त्र के अनुसार, कैलेंडर को मुख्य द्वार के सामने नहीं रखना चाहिए क्योंकि द्वार से गुजरने वाली ऊर्जा प्रभावित होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »