वायु पुराण की यह कथा जानना बहुत जरूरी जिसमें भगवान कृष्ण ने ऐसा ज्ञान दिया

भगवान श्रीकृष्ण द्वारिकापुरी के सिंहासन पर विराजमान थे। अनेक राजा उनकी कृपा पाने के लिए उन्हें घेरे बैठे थे। श्रीकृष्ण की कीर्ति दूर-दूर तक फैली थी। उनकी चतुराई और पराक्रम के आगे सभी राजा हार मान चुके थे। बचा था, बस दैत्यराज शकुनि। दैत्यराज शकुनि बहुत ही शक्तिशाली राजा था। देवता भी उससे थते थे। उसने शिव की तपस्या की थी। उनसे अजय होने का वर पाया था। शिवजी ने उसे वरदान दिया था कि शत्रुद्वारा मारे जाने पर जैसे ही उसका मृत शरीर पृथ्वी पर गिरेगा, वह पुनः जीवित हो उठेगा। आकाश में मृत्यु होने पर हवा के स्पर्श से भी वह जीवित हो उठेगा। शकुनि कई युद्ध में मारा गया, मगर हर बार और

ज्यादा शक्तिशाली होकरवह जीवित हुआ मिला ऐसा असुर भगवान कृष्ण की राजसत्ता को कैसे सहन करता?

दैत्यराज शकुनि ने द्वारिकापुरी पर आक्रमण का आदेश दिया। उसके बेटे-पोतों की संख्या कम नहीं थी। सभी वीर थे। वे सेना लेकर द्वारिकापुरी पर टूट पड़े। मगर वे वहां के वीरों के सामने टिकजसके। एक-एक करके सारे मारे गए।यह देखकर शकुनि दैत्य तिलमिला गया। उसका क्रोध दावानल जैसा भयंकर था। उसने नए सिरे से सेना को तैयार किया निर्णय लिया कि वह स्वयं जाकर श्रीकृष्ण का खात्मा करेगा।

श्रीकृष्ण को खबर मिली कि इस बार दैत्यराज शकुनि स्वयं युद्ध के लिए आ रहा है। वह विचार में डूब गए। श्रीकृष्ण के सेनापति ने कहा, “महाराज, आप चिंता न करें।हमारे हाथों से वह भी न बच पाएगा।”

श्रीकृष्ण ने कहा, “तुम उसकी शक्तियों को नहीं जानते। वह शिवजी से अजेय होने का वरदान पाए हुए है। बताते हुए श्रीकृष्ण ने वरदान की बात बता दी। सुनकर सभी यादव चिंता में डूब गए।

“मटर मैंने भी उपाय सोच लिया है। मैं स्वयं उससे युद्ध करूँगा। उसी उपाय से वह मारा जा सकेगा श्रीकृष्ण बोले।

“कौन सा उपाय भगवन ?”सेनापतियों ने पूछा।

श्रीकृष्ण बताने लगे, “वरदान देखकर शिवजी ने कहा था, दैत्यराज, सृष्टि में कोई भी सदा जीवित नहीं रह सकता। परिवर्तन सृष्टि का मूल है। तुम ही बताओ, तुम अपने प्राणों की सुरक्षा कैसे चाहते हो?”

शकुनि ने कहा, “आप ही बताएं।”

शिव बोले, “यह तोता लो। इसी में तुम्हारे प्राण हैं। सागर में तरंगों के बीच एक द्वीप है। तुम वहीं इसे रखो। इसकी रक्षा शंखचूड़ नामक सात फनों वाला भयंकर सांप करेगा।”

यह सुनकर शकुनि प्रसन्न हो गया। वह जानता था, शंख जैसे विषधर के रहते कोई तोते को या नहीं सकेगा”

“अब क्या होगा ?” सेनापति ने

“होगा क्या! शकुनि

पूछा।

को मारना है, तो वह तोता लाना होगा।यह काम गरुड़ ही करसकते हैं। मैं उन्हें बुलाता हूँ।” कहकर भगवान श्रीकृष्ण ने गरुड़ को याद किया। अपने विशाल पंखों के जोर से आधी सी उठाते हुए गरुड़ तुरंत उपस्थित हो गया। गरुड़ ने श्रीकृष्ण को प्रणाम किया। फिर बुलाने का कारण पूछा। श्रीकृष्ण ने उस द्वीप का पता बताते हुए कहा “तुम शंखचूड़ कोडराकर किसी तरह तोते को ले आओ।याद रहे, शंखचूड़ भगवान शंकर का सेवक है। उसे मारना नहीं। इस बीच मैं शकुनि से युद्ध करूणा।” जाते हुए गरुड़ के कान में श्रीकृष्ण ने यह भी बता दिया तोते को कहां लाना है। श्रीकृष्ण की आज्ञा पाकर गरुड़ तेज गति से द्वीप की ओर उड़ चला। इसी बीवी शकुनि सेना लेकर द्वारिकापुरी की ओर जाने के लिए तैयार हो गया। उसकी पत्नी मदालसा को अपशकुन होने लगे। उसने पति से कहा, “सुना है, श्रीकृष्ण स्वयं आपसे युद्ध करने आ रहे हैं। उनसे लड़ना आपके लिए ठीक नहीं। आप उनसे संधि कर लें।

शकुनि ने क्रोध से कहा, “तुम क्या नहीं जानती, श्रीकृष्ण ने मेरे वंश का संहार किया है। मैं उनसे बदला लेकर ही रहूंगा। तुम जानती हो, शिव के वरदान से मेरे प्राण जिस तोते में हैं, उसे कोई खोज नहीं पाएगा। फिर श्रीकृष्ण मेरा क्या बिगाड़ लेगा?” कहते हुए शकुनि युद्ध के लिए चल पड़ा। गरुड़ ने द्वीप पर पहुंचकर शंखचूड़ सर्प पर अपनी चोंच से प्रहार किया। शंखचूड़ अचानक हुए इस हमले से घबरा गया। वह जान बचाकर भागा। तभी मौका पाकर गरुड़ ने तोते के पिंजरे को चोंच में दबाया और आकाश में उड़ चला। उसने तोते को पिंजरे सहित समुद्र में डाल दिया। युद्ध क्षेत्र में शकुनि और श्रीकृष्ण में भयंकर युद्ध छिड़ गया। श्रीकृष्ण ने एक शक्तिशाली बाण से दैत्य का सिर धड़ से अलग कर दिया। शकुनि के मस्तक ने जैसे ही धरती का सार्श किया, वह जीवित हो उठा। उसने श्रीकृष्ण पर अपनी गदा चलाई. मगर उसका वार बचाते हुए श्रीकृष्ण ने अपने दिव्य बाण का प्रयोग किया।इस बाणने शकुनि के मस्तक को पृथ्वी की जगह दूर समुद्र की लहरों में फेंक दिया। तोता भी समुद्र में डूब चुका था। तोते के मरते ही शकुनि का भी अंत हो गया। यह देखकर सब भगवान श्रीकृष्ण की जय-जयकार कर उठे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »