लोग अपने पैरों में काला धागा क्यों बांधते हैं

काले धागे को पैरों में बांधने की परंपरा हमारे प्राचीन इतिहास से आती है। शास्त्रों के अनुसार, काला धागा पहनने के कई फायदे हैं। विशेष रूप से जब पैर पर बंधा होता है, तो पैर में एक काला धागा बांधने से मानव जीवन में एक अद्भुत बदलाव आता है।

आज भी, जब बच्चा किसी के घर में पैदा होता है, तो उसके पैरों में एक काला धागा बाँधने का रिवाज है। लोगों का मानना ​​है कि इसे पहनने से बच्चे को बुरी नजर से बचाया जा सकता है।

लोग अक्सर काले धागे को एक फैशन के रूप में पहनते हैं। वहीं, कुछ लोग ऐसे भी हैं जो इसे दूसरे व्यक्ति के कहने पर पहनते हैं। इसे पहनने के कई फायदे हैं। हालांकि, सकारात्मक प्रभाव सुनिश्चित करने के लिए काले धागे को पहनते समय कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, काला धागा पहनने के कुछ नियम हैं। इन नियमों का पालन करने में विफलता का स्वागत के रूप में कुछ बुरा प्रभाव पड़ सकता है।

रंग का कोई दूसरा धागा जिसमें हाथ या पैर बंधा हो उसे न बाँधें। छोटे धागे को केवल शुभ मुहूर्त में ही बाँधना चाहिए। यदि आप शुभ समय नहीं पा रहे हैं, तो आप इसके लिए किसी ज्योतिष विशेषज्ञ से संपर्क कर सकते हैं।

काला रंग शनि का होता है। इसलिए, काला धागा पहनने से आपकी कुंडली में शनि ग्रह की स्थिति कमजोर हो जाती है। आप काले धागे को नींबू के साथ अपने घर के दरवाजे पर बाँध सकते हैं। इस तरह, नकारात्मक ऊर्जा घर में प्रवेश नहीं करती है।

उन बच्चों के लिए जिनकी प्रतिरक्षा बहुत कम है, काला धागा उनके शरीर को बीमारियों से लड़ने की ताकत देता है। काले रंग में गर्मी को अवशोषित करने की शक्ति होती है। इस प्रकार, यह नकारात्मक ऊर्जाओं से बचाने के लिए एक ढाल के रूप में कार्य करता है। यह मनुष्यों को शनि दोष के नकारात्मक प्रभावों से बचाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »