ये 7 पौधे आपको बना देंगे करोड़पति,जरूर लागए

मानो या न मानो लेकिन ज्यादातर लोगों का मानना ​​है कि वहां पेड़-पौधे भी फल देते हैं। आइए जानें 12 प्रकार के पौधों के बारे में, जिनमें से आप घर में दो या तीन पौधे लगाकर अपना भाग्य बदल सकते हैं।

 मनी प्लांट

 ऐसा माना जाता है कि इस बेल घर में रहने से समृद्धि बढ़ती है। दक्षिणपूर्वी दिशा में धन्वंतरि को रखना उचित माना जाता है। इस दिशा के देवता गणेश हैं और प्रतिनिधि शुक्र हैं।

 चौराहा ओवटा

 ऐसा माना जाता है कि इस पौधे को लगाने से यह धन को आकर्षित करता है। फेंग शुई के अनुसार, अच्छी ऊर्जा की तरह, भी घर में पैसा आकर्षित करती है। अंग्रेजी में इसे जेड प्लांट, फ्रेंडशिप ट्री, लकी प्लांट या मनी प्लांट कहा जाता है।

 लक्ष्मण

 लक्ष्मण का पौधा भी धनलक्ष्मी को आकर्षित करने में सक्षम है। इसे घर के किसी भी बड़े बर्तन में उगाया जा सकता है। कहा जाता है कि जिसके घर में सफेद पलाश और लक्ष्मण का पौधा होता है, वह धनवर्षा शुरू करता है।

 केले का पेड़

 समृद्धि के लिए केले के पेड़ की पूजा की जाती है। घर की दीवारों पर केले का पेड़ लगाना शुभ होता है। चूंकि बृहस्पति ग्रह का एक तत्व है, इसलिए इसे उत्तर-पूर्व दिशा में रखना शुभ होता है। भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी को केले चढ़ाए जाते हैं।

 नारियल का पेड़

 ऐसा माना जाता है कि नारियल के पेड़ में सकारात्मक ऊर्जा होती है। यदि यह मैन्ग्रोव पेड़ घर के यार्ड में है, तो धन और समृद्धि बनी रहेगी। नारियल का पेड़ राहु या केतुजन समस्याओं का कारण नहीं बनता है।

 तुलसी का पौधा

 तुलसी को देवी लक्ष्मी का दूसरा रूप माना जाता है। घर में तुलसी का पौधा पूर्व या उत्तर-पूर्व की ओर लगाएं। घर में प्रवेश करने से पहले तुलसी सभी प्रकार के कीटाणुओं को मार देती है। इससे घर में सुख, शांति और समृद्धि का विकास होता है। किसी भी तरह का नियमित सेवन

 कोई गंभीर बीमारी नहीं।

 अश्वगंधा

 वास्तुशास्त्र के अनुसार, अश्वगंधा का पेड़ लगाने से सुख और समृद्धि आती है। अश्वगंधा का पेड़ एक बहुत ही लोकप्रिय आयुर्वेदिक दवा है और इसके कई फायदे हैं।

 कनेर

 तीन प्रकार की कनेर प्रजातियाँ हैं। एक सफेद कान वाला, दूसरा लाल कान वाला और तीसरा पीला कान वाला। कनेर के पौधे को देवी लक्ष्मी का प्रतीक माना जाता है। सफेद कनेर के फूल देवी लक्ष्मी को चढ़ाए जाते हैं। भगवान विष्णु को पीले फूल पसंद हैं।

 श्वार्टक एक दूध का पौधा है, जो भगवान गणेश का प्रतीक है। वास्तु के अनुसार, घर की सीमाओं के भीतर दूध के साथ एक पौधा होना अशुभ है, लेकिन श्वार्ट्ज एक अपवाद है, जो घर के पास बढ़ सकता है। यह घर में खुशी, शांतिपूर्ण और स्थायी वातावरण बनाता है।

 श्वेत अपराजिता

 यह पौधा धनलक्ष्मी को आकर्षित करने में सक्षम है। संस्कृत में इसे असोटा, विष्णुकांत, विष्णुप्रिया, गिरिकारनी, अश्वखुरा कहा जाता है। सफेद और नीले अपराजिता औषधीय गुणों से भरपूर हैं।

 हरसिंगार

 पारिजात के फूलों को हरसिंगार और शफालिका भी कहा जाता है। जहां भी यह पेड़ घर के आंगन में होता है वहां हमेशा शांति और समृद्धि बनी रहती है। इसके फूलों में खुशी से तनाव भरने की क्षमता होती है।

 कंद

 तीन प्रकार के कंद हैं। इसके आवश्यक तेल और इत्र भी बनाए जाते हैं। इसके कई औषधीय गुण भी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »