यह है दुनिया का अनोखा मेंढक जिसके आर पार आप आसानी से देख सकते हैं जानिए कैसे

“पारदर्शी मेंढक” की त्वचा में कलर पिगमेंट नहीं या कम होते हैं। जिस कारण इनकी त्वचा ‘कांच’ के समान पारदर्शी होती है। कई बार यह तो इतनी ज्यादा पारदर्शी होती है कि, उसमें से मेंढक के दिल, जिगर, इंटेस्टाइन, हड्डी, नस इत्यादि भी स्पष्ट दिखाई पड़ती है। इसलिए इनको ‘कांच का मेंढक’ या ‘ग्लास फ्रॉग’ भी कहा जाता है। सामान्य ज्ञान की त्वचा शरीर के निचले भाग अर्थात पेट के हिस्से में ज्यादा ट्रांसपेरेंट होती है। और ऊपरी हरा पीला या अन्य रंग भी हो सकता है।

“पारदर्शी मेंढक” छोटे आकार के होते हैं। जिनकी लंबाई 3 सेंटीमीटर से 7.5 सेंटीमीटर तक होती है। सामान्य मेंढक में आंखें ऊपर की ओर पूरी हुई होती है। जबकि, पारदर्शी मेंढक की आंखें सामान्य मेंढक की तुलना में सामने की ओर होती है। यह ‘मेंढक’ पानी, जल और पेड़ों पर भी सामान्य रूप से पाए जाते हैं। इनका पारदर्शी रंग एक ‘छलावरण’ का कार्य करता है । जो शिकारियों की नजर से, उनको छुपने में मदद करता है। इनके शिकारियों में पक्षी सांप या बड़े जलीय जीव होते हैं।

प्रजनन के समय अंडे, नदी-तालाब के किनारों पर देते हैं। जो पानी धाराओं और छोटे नदी के बहते पानी में, लटकते हुए पेड़ों या झाड़ियों में जमा होते हैं। इनके अंडों से निकलने वाले छोटे मेंढक, जिनको “टेडपोल” कहा जाता है इनकी लंबी पूछ व मछली के समान पंख पाए जाते हैं। जो धीरे धीरे उम्र बढ़ने के साथ में खत्म हो जाते हैं और जिनके शरीर में चार पैर विकसित हो जाते हैं।

इनका आहार मुख्य रूप से कीट पतंगे मकड़ी या मक्खी व अन्य जानवर होते हैं।

यह पारदर्शी मेंढक मैक्सिको पनामा वेनेजुएला टोबैगो बोलिविया अमेजन नदी ओरीनिको नदी गुयाना शील्ड ब्राजील अर्जेंटीना इत्यादि विस्तृत जगहों में पाए जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »