यह है इंसान के खून से बना ‘शैतानी जूता’

जानकारी के मुताबिक, एमएससीएचएफ ने शैतान शूज 29 मार्च को लॉन्च किए। फिलहाल, इन जूतों की 666 जोड़ी ही तैयार की गईं, जिनकी कीमत 1018 डॉलर रखी गई है।

भारतीय करेंसी में यह रकम करीब 75 हजार रुपये होती है। फिलहाल, सोशल मीडिया पर इन जूतों की काफी ज्यादा चर्चा हो रही है। माना जा रहा है कि ये जूते नाइकी के ‘एयर मैक्स 97’ से प्रेरित होकर तैयार किए गए।

29 मार्च को लॉन्च हुआ शैतान शूज

आप को मै जानकारी के लिए बताता चलूँ की, एमएससीएचएफ ने शैतान शूज 29 मार्च को लॉन्च किए। फिलहाल, इन जूतों की 666 जोड़ी ही तैयार की गईं, जिनकी कीमत 1018 डॉलर रखी गई है।

भारतीय करेंसी में यह रकम करीब 75 हजार रुपये होती है। फिलहाल, सोशल मीडिया पर इन जूतों की काफी ज्यादा चर्चा हो रही है। माना जा रहा है कि ये जूते नाइकी के ‘एयर मैक्स 97’ से प्रेरित होकर तैयार किए गए।

नाइकी ने लगाया यह आरोप

आप को मालूम होना चाहिए कि अमेरिकी कंपनी नाइकी ने एमएससीएचएफ पर शैतान शूज तैयार करने के लिए मुकदमा ठोका है। एमएससीएचएफ ने ये जूते मशहूर रैपर लिल नास के साथ मिलकर तैयार किए। नाइकी का दावा है कि इन जूतों पर उसके लोगो स्वूश चिह्न का भी इस्तेमाल किया गया। नाइकी का आरोप है कि उससे बिना इजाजत या साझीदारी के उसका लोगो जूते पर लगा दिया गया।

शैतान शूज को लेकर किए जा रहे ये दावे

आजकल सोशल मीडिया पर शैतानी जूते को लेकर तमाम दावे किया जा रहे हैं। कहा जा रहा है कि इन जूतों पर क्रॉस का निशान उल्टा बना हुआ है। इसके अलावा पेंटाग्राम यानी पंचकोण का भी निशान है। साथ ही, बाइबल के ल्यूक 10:18 का जिक्र भी है। काफी यूजर्स इसे ईश्वर के वचन का अपमान बता रहे हैं। दावा किया जा रहा है कि इस जूते को बनाने वाली कंपनी के मुताबिक, इसमें इंसानी खून की एक बूंद का भी इस्तेमाल किया गया। वहीं, 666 जोड़ी की लॉन्चिंग को शैतान का चिह्न बताया जा रहा है।

पहले भी विवादों में फंस चुकी है कंपनी

इस से पहले भी एमएससीएचएफ अपने कई प्रोडक्ट को लेकर विवादों में फंस चुकी है। असल में, कंपनी ने साल 2019 में ‘जीजस शूज’ लॉन्च किए थे, जिन्हें लेकर काफी विवाद हुआ था। उस वक्त कंपनी ने दावा किया था कि इन जूतों को बनाने में जॉर्डन नदी से लाया गया ‘पवित्र जल’ भी इस्तेमाल किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com