यहां पति की सुरक्षा के लिए पत्नियां विधवा के समान रहती हैं

आज भी हमारे यहां कई ऐसी जगह हैं जहाँ की परम्पराये सोचने पर मजबूर कर देती हैंl हैरानी वाली बात तो यह हैं की लोग आज भी ऐसे रिवाजों का पालन कर रहे हैंl ऐसी ही एक अजीब परंपरा गछवा समुदाय के लोगो मैं हैंl यह समुदाय उत्तरप्रदेश और बिहार के कुछ इलाकों मैं रहता हैंlयहां के लोग तरकुलहा देवी को मानते हैं.

ये लोग अपनी आजीविका के लिए ताड़ के पेड़ से ताड़ी निकलने का काम करते हैंl इस काम मैं कभी भी कोई भी दुर्घटना होने की संभावना रहती हैंl क्योंकि ये ताड़ के पेड़ बहुत ऊंचे ऊंचे होते हैंl इनकी ऊंचाई लगभग 60 फिट के आस पास होती हैं.

यहां के लोग ये काम सावन के पहले के चार महीनों मैं करते हैं l इन लोगो की पत्नियां इनकी रक्षा के लिये इन चारो महीनों मैं विधवा जैसा जीवन जीती हैं.

ताकि उनके पति को इस काम मैं कोई नुकसान ना पहुंचे और वे सलामत रहेl ये औरते अपने सुहाग की सारी चीजें इनकी देवी माता को चढ़ा देती हैंl और देवी माँ से पति की रक्षा की प्रार्थना करती हैं. औरतों को देवी माँ पर विश्वास रहता हैं की जब उनके पति ताड़ी निकलने का काम करेंगे तो देवी उनकी रक्षा करेंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »