मोबाइल फोन हो रहा है हैंग, तो अपनाएं ये ट्रिक

नया मोबाइल खदीदने के बाद कुछ महिने तक उसका यूज किया। लेकिन कभी-कभी नया मोबाइल कुछ महिने यूज करने के बाद ही हैंग होने लगते हैं। उस समय यूजर को स्मार्टफोन यूज करने में बड़ी समस्या होने लगती है। फोन बार-बार हैंग होने से एप्लीकेशन काम करना बंद कर देती हैं। स्मार्टफोन हैंग होने की कई वजहें होती हैं। जैसे फोन में कैशे आइटम बनना। एप का बैकग्राउंड में चलना आदि। यूजर अपने फोन की सेटिंग में बदलाव कर फोन की परफोरमेंस काफी सुधार सकते हैं।

बैकग्राउंड एप से बचाएं
रैम कई एप ऐसे होते हैं जो बंद करने के बाद भी बैकग्राउंड में रैम का इस्तेमाल करते हैं। इससे फोन हैंग हो जाता है। इससे बचने के लिए फोन सेटिंग में जाएं। यहां एप्स के विकल्प पर क्लिक करें। यहां फोन की मेमोरी, एसडी कार्ड में सेव एप अलग-अलग दिखाई देंगे। स्क्रीन को स्वाइप करने पर बैकग्राउंड में चलने वाले एप की जानकारी मिलेगी। फिर गैर जरूरी या ऐसे एप पर टैप करें जिनका इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं लेकिन वे रैम की खपत कर रहे हैं। इन एप पर टैप करने के बाद फोर्स स्टॉप के विकल्प पर क्लिक कर दें। याद रखें कि फोन की इनबिल्ट एप को बंद न करें। व्हाट्सएप, ट्रूकॉलर और गेम एप को बंद करने पर भी काफी रैम बचती है। इससे ये एप सिर्फ उसी समय चलेंगी जब आप उन्हें इस्तेमाल करेंगे।

कैशे को करते रहें साफ
कई बार ऐसा होता है जब हम कोई एप खोलते हैं तो फोन की स्क्रीन काली हो जाती है और फिर एक डायलॉग दिखता है जिसपर लिखा होता है, ‘यह एप्लीकेशन काम नहीं कर रही है।’ ऐसा कैशे (Cache) की वजह से होता है। एप्लीकेशन जितनी इस्तेमाल होती हैं उसके उतने ही कैशे बनते हैं। इन कैशे से स्मार्टफोन में इंटरनेट स्पीड और फोन का प्रोसेसर दोनों ही धीमे हो जाते हैं। फोन की स्पीड बढ़ाने के लिए इन ‘कैशे’ को निरंतर डिलीट करते रहना चाहिए। डिलीट करने के लिए सेटिंग में ‘स्टोरेज’ के विकल्प को खोलें। इसमें ‘क्लीयर कैशे’ का विकल्प मिलेगा उस पर क्लिक करके कैशे को फोन से हटा दें। इसके अलावा फोन में ‘सेटिंग्स’ के विकल्प पर जाकर एप्लीकेशन मैनेजर पर क्लिक करें। इसके बाद जिस एप में दिक्कत है उस पर क्लिक करके क्लीयर कैशे विकल्प पर क्लिक करें। अगर ज्यादा दिक्कत है तो क्लीयर डाटा विकल्प पर भी क्लिक कर सकते हैं। हालांकि इससे उस एप का सभी डाटा डिलीट हो जाएगा।

ब्राउजर को रखें अपडेट
फोन में पुराना ब्राउजर इंटरनेट की स्पीड धीमा कर सकता है। कंपनियां अपने अपडेट में छोटी-छोटी कमियों को दूर करती रहती हैं और एप बेहतर होता जाता है। इसलिए अपने फोन के ब्राउजर को हमेशा अपडेट रखें। ब्राउजर में भी कैशे आइटम जमा होते रहते हैं। ब्राउजर की सेटिंग में जाकर कैशे और इंटरनेट सर्फिंग हिस्ट्री को समय-समय पर डिलीट करते रहें।

4.एप का डाटा ऑटोसिंक न करेंफोन की स्पीड बढ़ाने के लिए एप के डाटा को ऑटोसिंक नहीं करना चाहिए। दरअसल न्यूज और मौसम की जानकारी देने वाले कई एप रिमोट सर्वर से जुड़े होते हैं और हर 15 मिनट में अपना डाटा ऑटो सिंक करते हैं। इससे फोन काफी धीमा हो जाता है। यूजर को इन एप की सेटिंग में जाकर डाटा ऑटो सिंक का फीचर बंद कर देना चाहिए।

एनिमेशन स्पीड बदलेंस्मार्टफोन में पेज बदलने पर एनिमेशन इफेक्ट दिखाई देता है। हालांकि यह बेहद कम समय होने की वजह से दिखाई नहीं देता। एंड्रॉयड फोन में इस एनिमेशन स्पीड को 1 की स्पीड पर तय किया गया है। यूजर सेटिंग में जाकर इसे .5x कर सकते हैं। इससे फोन की स्पीड बढ़ जाएगी। यह बदलाव करने के लिए फोन की सेटिंग में जाएं। यहां अबाउट फोन के ऊपर ‘डेवलपर ऑप्शन’ का विकल्प दिखेगा। इस विकल्प पर जाकर एनिमेशन स्पीड को कम कर सकते हैं।

कम स्पेस से भी हैंग होता है फोन
फोन की इंटरनल मेमोरी को फुल न होने दें। इससे फोन और इंटरनेट दोनों की स्पीड प्रभावित होती है। इससे बचने के लिए यूजर को अपने फोन का डाटा क्लाउड सेवा गूगल ड्राइव या वन ड्राइव में सेव कर लेना चाहिए, ताकि वह फोन की इंटरनल मेमोरी में मौजूद तस्वीरों और विडियो को डिलीट कर सके। इंटरनल मेमोरी खाली होने पर फोन की स्पीड भी बढ़ जाएगी। इंटरनल मेमोरी से डिलीट की गई इन तस्वीरों और वीडियो को गूगल ड्राइव से कभी भी हासिल किया जा सकता है।

गूगल ड्राइव में फोन के डाटा को ऑटो सेव करने की सुविधा भी दी गई है। इससे फोन में आने वाली नई वीडियो और तस्वीरें अपने आप गूगल ड्राइव में सेव हो जाएंगी। फोन से नई तस्वीरों और वीडियो को ऑटो सेव करने के लिए सबसे पहले सेटिंग में जाएं। यहां ‘बैकअप एंड रीसेट’ का विकल्प मिलेगा। इसके बाद ‘बैकअप माई डाटा’ और ‘ऑटोमेटिक रीस्टोर’ के ऑप्शन दिखेंगे। इन पर क्लिक करने के बाद फोन की सेटिंग में जाएं। यहां दिए गए ‘अकाउंट’ के विकल्प पर टैप करें। इसके बाद जैसे ही गूगल अकाउंट पर जाएंगे तो एप डाटा, कैलेंडर, क्रोम कॉन्टेक्ट, फोटो के बैकअप का विकल्प मिलेगा। इस पर क्लिक करने के बाद फोन की तस्वीरें, विडियो और एप का डाटा अपने आप गूगल ड्राइव में सेव होने लगेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Ads by Eonads
Translate »