मछली घर पर नकारात्मकता को घुसने नहीं देती है, जानिए एक्वेरियम से जुड़े वास्तु टिप्स

यदि धार्मिक रूप से, ज्योतिष और वास्तु के अनुसार, मछलीघर विशेष रूप से महिलाओं के लिए बहुत महत्व रखता है। दरअसल, जीवनदायी एक महिला है और पुरुष के पास ऐसी कोई सुविधा नहीं है। एक्वेरियम वास्तु का एक ऐसा परिवेश है, जो अपने आप में जीवन को संवारता है, जहाँ जीवन के साथ-साथ प्रजनन भी होता है। आइए जानते हैं पंडित कमल नंदलाल से जहां वास्तु के अनुसार एक्वेरियम रखना है।

एक्वेरियम में 9 ग्रह होते हैं

एक्वेरियम 9 ग्रहों का प्रतीक है। सभी मछुआरे या अखाड़े शनि का प्रतीक हैं। इसी समय, पानी चंद्रमा का प्रतीक है। आपने देखा होगा कि एक्वेरियम में नमक डाला जाता है, जो राहु को दर्शाता है। इसके अलावा, मछलीघर में मौजूद ऑक्सीजन – बुद्ध, उन्हें खिलाया गया भोजन – बृहस्पति, मछली की बातचीत – शुक्र, जब मछली मर जाती है तो नई मछली लाना मोक्ष केतु का प्रतीक है।

एक्वेरियम को किसी दिशा में रखें

एक्वेरियम का पानी मछलियों की वजह से हिलता है, इसलिए इसे उत्तर और उत्तर-पूर्व दिशा में रखना शुभ माना जाता है। इसके अलावा आप इसे पूर्व दिशा में भी रख सकते हैं। अगर किसी कारण से यहां जगह खाली नहीं है, तो आप इसे उत्तर-पश्चिम दिशा में रख सकते हैं।

इस दिशा में एक्वेरियम न रखें

एक्वेरियम को दक्षिण-पूर्व, दक्षिण, पश्चिम और दक्षिण-पश्चिम में रखना न भूलें। इससे घर में नकारात्मक ऊर्जा आ सकती है।

एक्वेरियम घर के लिए अच्छा होता है

यह कहा जाता है कि बहता पानी हमें जीवन देता है, लेकिन मछलीघर का पानी बंद हो जाता है। दरअसल, एक्वेरियम में मौजूद मछली अपने पानी को हिलाती रहती है, इसलिए इसे घर में रखना शुभ माना जाता है।

वास्तु दोषों के कारण मछलियाँ मर जाती हैं

आपने देखा होगा कि कई बार मछलियां अपने आप मरने लगती हैं। बता दें कि इसका कारण घर में वास्तु दोष और नकारात्मक वातावरण हो सकता है। इसके अलावा, जब बुद्ध की दिशा कम हो जाती है, तो मछलियां मरने लगती हैं। इसके अलावा, प्रकाश की कमी के कारण सूर्य तत्व कमजोर हो जाता है। मछली नहीं खिलाने से बृहस्पति खराब होता है। इसके अलावा, कुंडली में मछली चंद्रमा यानी एक्वेरियम के गंदे पानी के कारण मरने लगती है।

यह मछली महिलाओं के लिए अच्छी है

यदि आप अपने परिवार के स्वास्थ्य को सुख और समृद्धि के साथ सही रखना चाहते हैं, तो अपने मछलीघर में 7 लाल और 2 काली मछली रखें। 7 लाल मछली ग्रह और 2 काली मछलियाँ राहु-केतु का प्रतीक हैं। आप चाहें तो 7 लाल और 1 काली मछली भी रख सकते हैं।

न्यूली मैरिड कपल्स के लिए

अगर आप नवविवाहित हैं और अपने रिश्ते में रोमांस चाहते हैं, तो एक्वेरियम में 7 चांदी और 2 नीली मछली रखें। आप स्टार फिश भी पा सकते हैं।

नकारात्मक ऊर्जा को दूर करने के लिए

घर से नकारात्मकता को दूर करने के लिए काली मछलियाँ रखें। साथ ही, वास्तु के अनुसार, गेस्ट रूम या ड्राइंग रूम में मछलियों को रखना शुभ होता है, इसलिए इसे बेडरूम या घर की तरफ न रखें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »