मच्छर किस ब्लड ग्रुप वालो को ज्यादा काटते है, जानिए

ओ ब्लड ग्रुप – क्या आपने कभी सोचा है कि आप अधिक मच्छर क्यों काटते हैं?

जब भी आप सोते हैं, बैठते हैं या चलते हैं तो ये मच्छर आपको कैसे पहचानते हैं। वे केवल आपको कैसे काटते हैं।

उन्हें कैसे पता चलेगा कि आप अभी बिस्तर पर हैं? अक्सर आपने लोगों को यह कहते हुए सुना होगा कि मच्छर उन्हें इस संख्या में लोगों को काट रहे हैं, जबकि अन्य लोग चुपचाप बैठते हैं या बैठते हैं।

मच्छर बहुत बुद्धिमान होते हैं, क्या आपको ऐसा लगता है?

किसी के सामने यह कहना कभी न भूलें। ऐसा कुछ नहीं होता है। हां, लेकिन मच्छर उन लोगों को आसानी से पहचान लेते हैं जो एक विशेष रक्त प्रकार के होते हैं और उनकी ओर आकर्षित होते हैं। एक शोध में यह देखा गया है कि मच्छर ‘ ब्लडो’ ग्रुप की तरफ ज्यादा आकर्षित होते हैं। चार प्रकार के रक्त होते हैं, ए, बी, एबी और ओ। रक्त समूह ओ शायद ही कभी होता है। ऐसे रक्त में कुछ प्रकार के तत्व पाए जाते हैं, जो मच्छरों को आकर्षित करते हैं। इसका मतलब यह है कि मच्छर उन लोगों को अधिक काटते हैं जिनके ओ ब्लड ग्रुप है।

आमतौर पर ब्लड ग्रुप वाले लोग बाकियों के लिए बहुत मददगार होते हैं।

ओ ब्लड ग्रुप का रक्त किसी को भी बह सकता है। जब भी कोई आपात स्थिति होती है, तो इस रक्त समूह का रक्त रोगी को दिया जाता है। यह समूह अब मच्छरों को भी आकर्षित करता है, जो अपने आप में एक आश्चर्य है।

दरअसल इसके पीछे एक तर्क है। मच्छर हमारे खून से प्रोटीन लेते हैं। एक शोध के अनुसार, ओ ब्लड ग्रुप वाले लोग ए ब्लड ग्रुप के मुकाबले मच्छर को दो बार काटते हैं। वहीं, बी ब्लड ग्रुप के लोग आम तौर पर मच्छरों को काटते हैं। इसका क्या मतलब है

ऐसा हुआ कि ओ ब्लड ग्रुप वाले लोगों का खून प्रोटीन में उच्च होता है।

यदि आपके पास ओ रक्त समूह है और आप लंबी सांस लेते हैं, तो आप मच्छरों को अधिक काटेंगे।

एक शोध में यह बात सामने आई है कि जो लोग लंबी सांसें लेते हैं, मच्छर उन्हें ज्यादा काटते हैं। दरअसल, इसका कारण साँस छोड़ने के दौरान शरीर से निकलने वाले कार्बन डाइ ऑक्साइड के कारण होता है, जिसमें शरीर से दुर्गंध आती है। मच्छर तय करते हैं कि वे किस रास्ते पर जाना चाहते हैं। सांस जितनी लंबी होगी, उनके लिए अनुमान लगाना उतना ही आसान होगा।

तो अब से, अपनी सांस को धीमा करो।

इतना ही नहीं, एक शोध से यह भी पता चला है कि जिन लोगों के पसीने में अधिक गंध आती है, मच्छर भी उन्हें अधिक काटते हैं। जिन लोगों को अधिक पसीना आता है, मच्छर उन्हें अधिक काटते हैं। पसीने में लैक्टिक एसिड, यूरिक एसिड, अमोनिया जैसे तत्व होते हैं, जो मच्छरों को जल्दी आकर्षित करते हैं। यही कारण है कि जब आप पार्क में चलते हैं तो भी मच्छर काटते हैं।

इसलिए अब से, ओ ब्लड ग्रुप वाले लोगों को सावधान रहना चाहिए, क्योंकि ये मच्छर आपको हर जगह पहचान लेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »