भारत का एकलौता गांव जो 24 सालों तक पाकिस्तान में रहा है

आज हम बात करेंगे भारत के एक ऐसे गांव के बारे में, जो 24 सालों तक पाकिस्तान में रहा, लेकिन 1971 के युद्ध में इसे भारत ने अपने आप में शामिल कर लिया।

 हम जिस गांव की बात कर रहे हैं, वह कश्मीर का गांव है, जो अब लद्दाख में पड़ता है। इस गांव का नाम है तुरतुक गांव, इस गांव में निवास करने वाले लोगों की संख्या अधिकतम मुसलमानों की है, इस गांव में प्राकृतिक सुंदरता के साथ कई तरह के प्राकृतिक खूबसूरती भी मौजूद हैं।

एक समय था, जब यहां से भारत-चीन, रोम और पारस तक का व्यापार होता था। लेकिन आजादी के बाद जब यह पाकिस्तान में शामिल हुआ, तो इस गांव में बाहरी लोगों के आने पर प्रतिबंध लगा दिया गया। चुकी यह बॉर्डर के काफी समीप में था, इसको पूरी तरह से अलग कर दिया गया था। 

जब यह गांव पाकिस्तान के कब्जे में था, तब बलूचिस्तान के इलाके में आता था, आपको बता दें, यहां पर एशिया से तुर्किस्तान के याकुबू वंश के शासकों ने राज किया था, करीब 800 से 1600 वर्ष तक यहां पर राज किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »