बाहर से बहुत गर्म और अन्दर से बहुत ठंडा रहता है यह मंदिर जानिए क्या है रहस्य

भारत में बहुत सारे ऐसे मंदिर है जिनके अपने चमत्कारी किस्से है | इन चमत्कारों के बारे में वैज्ञानिक भी कुछ नही कह पा रहे | जब भक्त इसे चमत्कारों को अपनी आँखों से देखता है तो अपने धर्म और उस मंदिर के प्रति उसकी आस्था और भी प्रबल हो जाती है | किसी मंदिर की रक्षा शाकाहारी मगरमच्छ करता है तो किसे मंदिर में नाग शिवजी की पूजा करने सालो से आ रहा है | कही नवरात्रि में स्वतः ही ज्योत जल उठती है तो कही देवी माँ महीने में कई बार अग्नि से स्नान करती है |

ओडिशा के टिटलागढ़ शहर में एक ऐसा शिव मंदिर है, जहां पर गर्मियों के समय यह स्थान ठंडा हो जाता है। ऐसा तब होता है, जब पूरा देश सूर्य से आने वाली गर्मी की तपन से झुलस रहा होता है। इस मंदिर में गर्मी में सर्दी का अहसास होता है ।

टिटलागढ़ शहर बलांगिर जिले में है। यह रहस्यमयी मंदिर कुम्हड़ा पहाड़ी पर है। मई-जून के माह में जब टिटलागढ़ का तापमान 55 डिग्री रहता है, तब पहाड़ी पर मौजूद मंदिर का तापमान बहुत कम होता है। यदि मंदिर में कोई भक्त हो तो उसे एसी की कूलिंग का अहसास होगा। यहां ठंड इतनी ज्यादा होती है कि यहां मौजूद पुजारी अपने साथ गर्म कपड़े रखते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »