बहुत गरीब थे”WWE” के यह सुपरस्टार

द रॉक” एक बहुत मशहूर एक्टर और रेसलर है, लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि द रॉक कभी रेसलर बनना ही नहीं चाहते थे। वह एक फुटबॉलर बनना चाहते थे। वह एक “मिडल क्लास” फैमिली में पैदा हुए थे। बचपन में उन्हें और उनके माता-पिता को किराया ना देने की वजह से उनके मकान मालिक ने घर से निकाल दिया था।

द रॉक उस समय को उनके जीवन का सबसे मुश्किल समय बताते हैं। द रॉक फुटबॉल खेलने में काफी अच्छे थे, लेकिन 1995 में उन्हें इंजरी हुई और उनका फुटबॉल कैरियर वहीं पर समाप्त हो गया। लेकिन द रॉक ने हार नहीं मानी और अपना रुख रेसलिंग की तरफ कर लिया। 1995 में ही उन्होंने अपना पहला मैच खेला। इसके बारे में द रॉक बताते हैं। कि उस मैच तक मैं पूरा टूट चुका था। मेरे पास रेसलिंग शूज और पैड खरीदने तक के पैसे नहीं थे लेकिन वह बिना शूज और पैड के लड़े। और फाइट को जीत लिया।

“जॉन सीना” इस सदी के बहुत बड़े सुपरस्टार हैं। वह 16 टाइम डब्ल्यूडब्ल्यूई चैंपियन और 5 टाइम यूनाइटेड स्टेट चैंपियन रह चुके हैं, लेकिन डब्ल्यूडब्ल्यूई में आने से पहले उन्हें कई मुश्किलों का सामना करना पड़ा था। जॉन सीना का जन्म एक मिडिल क्लास फैमिली में हुआ था। बचपन में वह बहुत दुबले पतले थे। इसलिए कई बार स्कूल में बच्चे उन्हें मारते भी थे। तब से उनमें बॉडी बनाने का इंटरेस्ट पैदा हुआ 15 साल की उम्र में उन्होंने जिम ज्वाइन किया।

और कुछ ही टाइम में उन्होंने पूरे स्कूल में सबसे अच्छी बॉडी बना ली। उनके पिता नहीं चाहते थे कि वह बाॅडी बिल्डिंग में आगे आए। इसलिए जॉन सीना घर से भागकर कैलिफोर्निया गए कैलिफ़ोर्निया में सरवाइव करने के लिए उन्हें कई तरह के काम करने पड़ते थे। वह लोगों की गाड़ी चलाते थे और घर ना होने की वजह से कार में ही सो जाते थे। बाद में उन्होंने एक जिम में काम किया जहां पर वह मशीनों की देखभाल और जिम की साफ सफाई का काम किया करते थे और यहां पर उन्हें टॉयलेट भी साफकरना पड़ता था।

“डीन एंब्रोस” डब्ल्यूडब्ल्यूई के बहुत मशहूर सुपरस्टार है। वह द शील्ड के मेंबर भी रह चुके हैं। डीन एंब्रोस भी एक बहुत गरीब परिवार से थे। उनके पिता इंडियाना पुलिस में काम करते थे जो डीन एंब्रोस के घर से लगभग 100 किलोमीटर की दूरी पर था। इस वजह से डीन एंब्रोस के पिता उनके साथ ज्यादा टाइम स्पेंड नहीं कर पाते थे। डीन एंब्रोस बचपन से ही एक रेसलर बनना चाहते थे, लेकिन रेसलर बनना इतना आसान नहीं था शुरुआती दिनों में उन्होंने होटल एंड रेस्टोरेंट एसोसिएशन में पॉपकॉर्न बेचे थे। और इनके आसपास कुर्सी लगाने का काम भी किया था। दोस्तों अगर जिंदगी में हमारा लक्ष्य स्पष्ट हो तो कोई मुश्किल हमें उसेेे पाने से नहीं रोक सकती है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »