प्रकृति में नीला रंग आखिर क्यों दुर्लभ है,जानिए

जब भी मेँ प्रकृति को मैं इन आँखों से देखता हूँ तो, हमेशा एक रोमांच की अनुभूति से पूरा शरीर खिल उठता है। ऐसा प्रतीत होता है की, प्रकृति ने कुछ जादू ही कर दिया हो। यूं तो प्रकृति और संसार में कई सारी आश्चर्यजनक चीज़े मौजूद हैं, परंतु हम इंसानों ने अभी तक उनके बारे में ज्यादा कुछ नहीं जाना है। जब भी जीव-जंतु और पेड़-पौधों की बात आती है तो सबसे पहले भूरे और हरे रंगों की कई सारे छवियाँ हमारे मन में आती हैं। परंतु क्या कभी आपके मन में नीले रंग (blue things in nature) की कोई छवि आयी है। हाँ! जी भाई मेँ नीले रंग की ही बात कर रहा हूँ।

शायद आप सभी लोगों का जवाब नहीं ही आयेगा। परंतु आखिर क्यों? मित्रों! इसी क्यों के जवाब पर आज का हमारा लेख आधारित है। कहने का तात्पर्य ये है की, आज के इस लेख में हम जानेंगे को आखिर क्यों हमारे प्रकृति में नीले रंग (blue things in nature) के जानवर दिखाई नहीं देते है? आखिर क्यों नीला रंग प्रकृति में इतना दुर्लभ है? दोस्तों! नीला रंग हमारे प्रकृति का एक छुपी हुई पहली है, जिसके बारे में जानना आप लोगों के लिए बहुत ही जरूरी है। इससे आप लोगों को प्रकृति की नैसर्गिक गुणों को और बेहतर से जानने का मौका मिलेगा।

हमारे त्वचा के रंग को भी बदला जा सकता है इस अद्भुत तकनीक के जरिये:-
नीले रंग में छुपी हुई हैं कई सारे अनजान बातें – Blue Is The New Strange
अगर आप थोड़ा गौर से अपने आस-पास मौजूद जीव-जंतुओं और पेड़-पौधों को देखेंगे तो पाएंगे की, नीले वर्ण वाली कोई भी जीवित चीज़ आपके पास मौजूद ही नहीं है। सरल भाषा में कहूँ तो, क्या कभी आपने नीले वर्ण का कुत्ता, बिल्ली या भेड़-बकरी को देखा है। नहीं न! मैंने भी नहीं देखा है। तो, सवाल उठता हैं की नीले वर्ण के जीव क्या सच में विरल है। जवाब हैं, हाँ! नीले वर्ण के जीव प्रकृति में बहुत ही कम है।

अगर मेँ कहूँ तो, प्रकृति में शायद दो या तीन ऐसे जीव होंगे जिनका वर्ण नीला है। इन जीवों के अंदर में से मेंढक और कुछ विशेष प्रजाति के तितली शामिल है। जो की दिखने में नीले वर्ण के हैं। खैर जो भी हो नीले वर्ण को धारण करना संसार में बहुत ही ज्यादा आकर्षक दिखता है। इसके अलावा मेँ और भी बता दूँ की, आपको शायद ऐसे भी पक्षियाँ नजर आएंगी जिनका वर्ण भी लगभग नीला होगा। हालांकि ऐसे भी कई पक्षियां मौजूद हैं जिनके पंखों का रंग आंशिक रूप से नीला होता है।

जो भी हो परंतु आप इस बात को ठुकरा नहीं सकते की, प्रकृति में नीला रंग बहुत ही दुर्लभ है। अगर हम जीव जगत में अपनी नजर डालें तो, इस बात की मार्मिकता का बोध आप लोगों को चंद सेकंड में मिल जाएगा। नीले रंग (blue things in nature) को प्रकृति ने बहुत ही विशेष जगहों पर इस्तेमाल किया है। वैसे हरे और भूरे रंग को प्रकृति ने बहुत ही भारी मात्रा में हर जीवों के अंदर इस्तेमाल किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Do NOT follow this link or you will be banned from the site!
Translate »