प्रकृति का जैविक बम, जो ख़त्म कर सकता है मनुष्यों का अस्तित्व

ऊँची ऊँची ईमारतें , व्यस्त सड़के और उनसे भी ज्यादा व्यस्त न्यूयोर्क का सीवर सिस्टम। जहाँ रहतें हैं लाखों की तादाद में मूषक यानी चूहे। यूँ तो ये छोटी सी जान होतें हैं पर इतिहास गवाह है जब जब इन चूहों से महामारी फैली है तब तब जान पर बन आयी है।
आज हम आप लोगों के साथ न्यूयोर्क के चूहों पर की गयी एक ऐसी शोध के नतीजे साझा करेंगे जिन्हे जानकार भारतीय महानगरों में भी रहने वाले लोगो के रोंगटें खड़े हो जायेंगे।

इस शोध के लिए न्यूयोर्क के हर इलाक़े से चूहों के सैंपल लिए गए। जिनमें मेडिकल वेस्ट डंप यार्ड, रिहाइशी इलाके, अपार्टमेंटस और होटलों से पकड़े गए चूहे भी शामिल किये गए थे । जब इन चूहों का लेबोरेटरी में मेडिकल परिक्षण किया गया। तो स्थिति की भयावहता सामने आयी।
हर 4 में से 1 चूहे में घातक बीमारीयोँ के बैक्टीरिया व वायरस पाए गए। पर सबसे डरावनी बात ये थी की चूहों में पायी गए ये बीमारीयाँ एंटीबायोटिक रेसिस्टेंट या एंटीबायोटिक रोधी थीं। सरल भाषा में कहा जाये तो जो संक्रामक बीमारीयाँ इन चूहों में पायी गई उन पर एंटीबायोटिक दवाएँ कारगर साबित नहीं होंगी । जिसका सीधा मतलब है की अगर इन चूहों द्वारा मनुष्यों में महामारी फैलती है तो इलाज मिल पाना मुश्किल हो जायेगा।

इग्लैंड में इसी प्रकार की एक एंटीबायोटिक रेसिस्टेंट बीमारी रिपोर्ट की गयी थी। आपने आप में स्वयं एक गंभीर रोग गोनोरिया का वीभत्स प्रकार “सुपर गोनोरिया” . इस प्रकार के गोनोरिया का इलाज काफी मुश्किल हो गया था क्योंकि सुपर गोनोरिया पर एंटीबायोटिक दवाएं काम नहीं कर रहीं थीं ।
बीमारी के वाहक न्यूयोर्क के जिन चूहों कि हम बात कर रहे थे उनमें गंभीर डायरिया पैदा करने वाला क्लॉस्ट्रीडियम बैक्टीरिया , फ़ूड पोइज़निंग करने वाला साल्मोनेला एन्टेरिका , निमोनिया फ़ैलाने वाला जीवाणु क्लेबसिएल्ला और खतरनाक इ कोली बैक्टीरिया पाए गए हैं ।

तो आखिर इन महानगरियों चूहों में ये बीमारियाँ कैसे आ गयीं ?
कैसे इन चूहों में पाए गए रोगाणुओं में एंटीबायोटिक रोधी गुण विकसित हो गए ?
इन सवालों से पर्दा उठाने के लिए पहले हमें रोगाणुओं के इन्फेक्शन या संक्रमण फ़ैलाने की प्रक्रिया को समझना होगा

हमारा शरीर कई ख़रब सेल्स या कोशिकाओं से बना एक बेहद जटिल तंत्र है। बहुकोशकीय जीवों में बदलाव और अडॉप्टेशन की प्रक्रिया काफी धीमी होती है जिनमे कई हज़ार वर्ष लग जातें है। वही एक कोशकीय जीव यानी सिंगल सेल ऑर्गैनिस्म में एवोलुशन लगातार होता रहता है। ज्यादातर बीमारी फ़ैलाने वाले रोगाणु भी एक कोशकीय संरचना वाले बहुत ही सरल जीव होतें हैं । एक कोशकीय यानी सिंगल सेल ऑर्गैनिस्म होने की वजह से बैक्टीरिया या जीवाणुों में एवोलुशन या क्रमानुगत विकास बहुत ही तेज़ गति से होता है। जब बैक्टीरिया पर एंटीबायोटिक्स का हमला होता है , तो बैक्टीरिया की कॉलोनी में लगातार प्रजनन कर रहे बैक्टीरिया की संख्या में भारी कमी आती है। जिससे होस्ट या रोगी रोग से तो मुक्त हो जाता है लेकिन बैक्टीरिया की कॉलोनीज में प्रजनन पूरी तरह नहीं रुकता। जैविक अनुकूलन या अडेप्टशन के कारण अब वहां से जो नए बैक्टीरियास पैदा होतें हैं उनमें एंटीबायोटिक से लड़ने की क्षमता विकसित हो जाती है। ठीक वैसे ही जैसे हमारे खुद की प्रतिरोधक क्षमता काम करती है। फर्क ये है की बैक्टीरिया एक कोशकीय या सिंगल सेल ऑर्गैनिस्म होने की वजह से अत्यंत प्रतिकूल परीस्थितियों में भी अडेपटेशन और इवॉल्वे होने में सक्षम होतें हैं।

यही कारण है की हमेशा डॉक्टर्स द्वारा एंटीबायोटिक दवाओं के डोज़ पूरा करने की समझाइश दी जाती है। डोज़ पूरा न होने की स्थिति में रोगी के अंदर जीवाणुओं की कॉलोनीज न सिर्फ बची रह जाती है बल्कि उन पर फर्स्ट लाइन में दी गयी एंटीबायोटिक दवाएं का असर नहीं होता और रोगी की स्थिति बद से बदतर हो जाती है।
अब अगर ऐसे ही किसी एंटीबायोटिक रेसिस्टेंट रोगी के संपर्क में मूषक या चूहे आ जाएँ । तो ये एंटी बायोटिक रेसिस्टेंट रोगाणु चूहों में घर कर सकतें हैं । चूँकि मानवों को प्रभावित करने वाले ये रोग चूहों में बीमारी उत्पन्न नहीं कर पाते , इस वजह से चूहे इन रोगों से ग्रस्त न होकर इन रोगों के वाहक या कैरियर बन जाते हैं। सोचिये जब भीड़ भाड़ वाले इलाकों में संक्रमण एक आदमी से दूसरे आदमी में तेज़ी से फैल सकता है , तो एक चूहे से दूसरे चूहे और फिर चूहों की पूरी बस्ती में कितनी त्वरित गति से फैलेगा। इनसे खतरनाक एंटीबायोटिक रेसिस्टेंट बीमारियों के वाहकों की पूरी एक फ़ौज तैयार हो सकती है । महामारी फ़ैलाने वाले इस प्राकृतिक जैविक बम की कल्पना मात्र भी भयावह लगती है।

हाल के कुछ वर्षों में डॉक्टर्स और मेडिकल साइंसदानों ने पहले की अपेक्षा कई गुना अधिक ड्रग रेसिस्टेंट डिसीसेस के केसेस दर्ज किये हैं। ज्यादातर मामलों में ये आम तौर पर पायी जाने वाली बीमारियों का घातक वर्शन थी सिर्फ यही नहीं कुछ केसेस में जो ड्रग रेसिस्टेंट बीमारियां पायी गयी उनका जिक्र किसी भी मेडिकल डिक्शनरी में नहीं था।
अब चूँकि न्यूयोर्क की तरह ही विश्व के ज्यादातर महानगर चूहों की फ़ौज से ग्रसित हैं तो क्या ये मान लिया जाए की अब किसी भी समय यह जैविक बम फट सकता है और लाखों करोड़ों लोग ऐसी किसी महामारी का सामना करने पे मजबूर हो सकतें हैं जिसका ईलाज वर्तमान काल की किसी भी एंटीबायोटिक दवा से नहीं किया जा सकेगा । अगर हाँ तो ऐसी किसी ड्रग रेसिटेंट महामारी से हमारा अब तक सामना क्यों नहीं हुआ ?

असल में चूहों से मनुष्यों में होने वाले संक्रमण की प्रक्रिया बड़ी पेचीदा है। इस बात में कोई दो राय नहीं की चूहे बीमारियों के वाहक होते हैं और उनसे मानवों में रोगाणु फ़ैल सकतें है। लेकिन इतिहास में कई ऐसे उदहारण मौजूद हैं,जहाँ महामारी की आशंका चूहों से थी मगर अपराधी कोई और जीव था। जी हाँ हम बात कर रहें हैं विश्व भर में कई अलग अलग देशों और कालखंडों में फैली “काली मौत” का जिसे हम आम तौर पर “प्लेग” कहते हैं। प्लेग की जिस महामारी को फ़ैलाने का इलज़ाम इन चूहों पर लगा था .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »