पेंशनर्स के लिए बड़ी खबर- जानिए क्या है ई-पीपीओ, कैसे होगा फायदा

अगर आपको भी पेंशन मिलती है, तो आपको बता दें कि पासबुक पर पेंशन भुगतान आदेश संख्या होना अनिवार्य है। कई बार, बैंक पेंशनभोगियों या उनके परिवारों को पीपीओ नंबर नहीं देते हैं। पीपीओ नंबर नहीं होने से पेंशनर को कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

केंद्रीय कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा है कि पेंशनभोगियों को अब अपने डिजीलॉकर में सीधे इलेक्ट्रॉनिक पेंशन भुगतान आदेश (ई-पीपीओ) मिलेगा, जो देरी की संभावना को समाप्त कर देगा। डिजीलॉकर नागरिकों के लिए एक डिजिटल दस्तावेज़ वॉलेट है। इसमें, वे अपने महत्वपूर्ण दस्तावेजों को इलेक्ट्रॉनिक रूप से रख सकते हैं और उन तक पहुंच सकते हैं।

यह सुनिश्चित करने के लिए यह कदम उठाया गया है कि नए पेंशनरों को कोविद -19 महामारी के दौरान अपने पेंशन भुगतान आदेश की एक भौतिक प्रति लेने के लिए मजबूर नहीं किया गया है। सिंह ने कहा कि पेंशनरों की सुविधा के लिए ई-पीपीओ को डिजीलॉकर के साथ जोड़ा जाएगा।

पेंशनरों के मूल पीपीओ के गायब होने से उन्हें बहुत परेशानी होती है। इस योजना से किसी भी दस्तावेज की मूल प्रति खोने का कोई डर नहीं होगा। डिजीलॉकर में कभी भी, कहीं भी दस्तावेज़ की डिजिटल प्रतियां प्राप्त की जा सकती हैं।

DigiLocker एक डिजिटल दस्तावेज़ वॉलेट है। जिसमें आप नागरिक पैन कार्ड, वोटर आईडी, पासपोर्ट, पासपोर्ट, अपने कार के कागजात, ड्राइविंग लाइसेंस सहित किसी भी सरकारी प्रमाण पत्र को स्टोर कर सकते हैं। डिजीलॉकर खाता खोलने के लिए आधार कार्ड आवश्यक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »