पीएम मोदी आज शाम देश के सामने क्या-क्या ऐलान कर सकते है ,जानिए

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज शाम 4 बजे राष्‍ट्र को संबोधित करेंगे। कोरोना वायरस महामारी, भारत-चीन के बीच सीमा पर तनाव और 59 चीनी ऐप्‍स पर प्रतिबंध के फैसले के बीच पीएम का संबोधन हो रहा है। इसके साथ ही, 1 जुलाई ने अनलॉक 2.0 की गाइडलाइंस लागू हो रही हैं। ऐसे में प्रधानमंत्री अपने संबोधन में कई पहलुओं पर बात कर सकते हैं। उन्‍होंने आखिरी बार, 12 मई को राष्‍ट्र को संबोधित किया था। तब उन्‍होंने लॉकडाउन से उबर रही अर्थव्‍यवस्‍था के लिए 20 लाख करोड़ रुपये के वित्‍तीय पैकेज की घोषणा की थी। रविवार को ‘मन की बात’ में पीएम मोदी ने लद्दाख में तनाव से लेकर कोविड-19 तक का जिक्र किया था। आज शाम के अपने संबोधन में प्रधानमंत्री मोदी से कुछ बड़े ऐलानों की उम्‍मीद है।

अनलॉक 2.0 की गाइडलाइंस एक जुलाई से लागू हो रही हैं। गृह मंत्रालय ने पॉइंट-वाइज गाइडलाइंस जारी कर दी हैं। अपने संबोधन में प्रधानमंत्री कुछ गतिविधियों की छूट अब भी न दिए जाने की वजह बता सकते हैं। इसके अलावा, किन बातों को ध्‍यान में रखकर गाइडलाइंस तैयार की गई हैं, उनका मकसद क्‍या है, इस बारे में भी प्रधानमंत्री बता सकते हैं।

कोरोना पर नागरिकों को देंगे सीख

कोरोना वायरस के दौर में प्रधानमंत्री मोदी जब-जब लोगों से मुखातिब हुए हैं, उन्‍होंने सोशल डिस्‍टेंसिंग और मास्‍क का महत्‍व समझाया है। देश में जिस तरह संक्रमण के मामले बढ़े हैं, उसे देखते हुए प्रधानमंत्री एक बार फिर से जनता को समझा सकते हैं कि वैक्‍सीन न मिलने तक सावधानी ही कोरोना से बचने का उपाय है।

चीनी ऐप्‍स के बैन पर बोलेंगे पीएम?

केंद्र सरकार ने 59 चीनी ऐप्‍स को बैन करने का जो फैसला किया है, प्रधानमंत्री उसपर बोल सकते हैं। रविवार को ‘मन की बात’ में भी प्रधानमंत्री ने सीमा पर जारी तनाव का जिक्र किया था और कहा था कि भारत मां पर नजर डालने वालों को जवाब दे दिया गया है। चीनी ऐप्‍स को बैन करने के बाद का रास्‍ता क्‍या है, पीएम मोदी इसपर अपनी राय सामने रख सकते हैं।

बच्‍चों से खासतौर से मुखातिब होंगे पीएम!

लॉकडाउन की वजह से घरों में कैद बच्‍चों से पीएम मोदी सीधे मुखातिब हो सकते हैं। जुलाई वह महीना होता है जब अधिकतर स्‍कूल गर्मी की छुट्टियों के बाद खुलते हैं। फिलहाल एजुकेशन इंस्‍टीट्यूट्स बंद हैं। ऐसे में प्रधानमंत्री मोदी बच्‍चों को घर से ही पढ़ाई के लिए प्रेरित कर सकते हैं। ऑनलाइन क्‍लासेज का महत्‍व समझा सकते हैं, इस दिशा में उठाए गए कदमों की जानकारी दे सकते हैं।

एयर ट्रेवल, रेल सेवाओं की बहाली पर बोलेंगे पीएम?

सरकार ने घरेलू उड़ानों की परमिशन दे रखी है मगर इंटरनैशनल फ्लाइट्स अभी सिर्फ ‘वंदे भारत मिशन’ के तहत ही चलाई जाएंगी। इसके अलावा ट्रेनों को भी बंद रखने के निर्देश हैं। पीएम मोदी अपने संबोधन में अनलॉक 2.0 के दौरान यातायात के इन दो अहम साधनों को सीमित रखने के बारे में बता सकते हैं। सभी सेवाओं को कब तक खोलने की योजना है, पीएम इस बारे में भी जानकारी दे सकते हैं।

चीन के लिए आ सकता है साफ संदेश

राष्‍ट्र के नाम अपने संबोधन में पीएम मोदी चीन के साथ जारी तनाव पर बात कर सकते हैं। वह साफ कर चुके हैं कि भारत किसी भी घुसपैठ का मुंहतोड़ जवाब देगा और इसके लिए सेना को खुली छूट दी गई है। वह वर्तमान हालात पर देश को अपडेट भी दे सकते हैं। इसके अलावा, सरकार ने चीनी प्रभुत्‍व को कम करने के लिए क्‍या-क्‍या कदम उठाए हैं, उसकी भी जानकारी प्रधानमंत्री से मिल सकती है।

‘आत्‍मनिर्भर’ बनने की सीख दे सकते हैं पीएम

चीन के साथ जारी तनाव के मद्देनजर भारत में चीनी उत्‍पादों के बायकॉट की मांग तेज हो रही है। प्रधानमंत्री सीधे तो चीनी बायकॉट की बात नहीं करेंगे मगर वह इशारों में जनता से ‘आत्‍मनिर्भर’ होने की अपील कर सकते हैं। वह ऐसा पहले भी कह चुके हैं कि हमें दूसरे देशों पर निर्भरता कम करनी चाहिए। वह देश में मैनुफैक्‍चरिंग को बढ़ावा देने के पक्ष में हैं और इस दिशा में किसी योजना की घोषणा भी कर सकते हैं।

युवाओं से खास अपील करेंगे पीएम

चीनी ऐप्‍स बंद करने का बड़ा असर भारतीय युवाओं पर होगा जो इन्‍हें खूब यूज करते थे। प्रधानमंत्री सीधे इन्‍हीं युवाओं को संबोधित करते हुए फैसले के पीछे की वजह समझा सकते हैं। इसके अलावा, वह युवा टेक्‍नोक्रेट्स से अपील भी कर सकते हैं कि भारतीय ऐप्‍स डेवलप करें ताकि दूसरे देशों से जासूसी का खतरा न रहे। वह पहले भी युवाओं से ‘आत्‍मनिर्भर’ बनने की अपील कर चुके हैं।

आरोग्‍य सेतु को फिर कर सकते हैं प्रमोट

कोरोना मरीजों के कॉन्‍टैक्‍ट ट्रेसिंग के लिए बनाई गई ऐप ‘आरोग्‍य सेतु’ के यूजर्स की संख्‍या तेजी से बढ़ी है। यह ऐप यूजर्स को कोविड-19 के रिस्‍क की जानकारी देती है। सरकार के लिए इस ऐप का डेटा कॉन्‍टैक्‍ट ट्रेसिंग में बड़े काम आता है। अभी बहुत से भारतीयों के स्‍मार्टफोन में यह ऐप नहीं है। ऐसे में प्रधानमंत्री एक बार फिर लोगों से इस ऐप को डाउनलोड कर इस्‍तेमाल करने की अपील कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »