पितृ पक्ष 2020: घर में पूर्वजों की तस्वीरें लगाने से पहले इन वास्तु नियमों को जानें

पितृ पक्ष 2020 पितरों की तस्वीर उत्तर की ओर मुख वाली दीवारों पर ही लगानी चाहिए। शास्त्रों में दक्षिण को पितरों की दिशा माना गया है।

अक्सर हम अपने पूर्वजों की तस्वीर घरों में रखते हैं। ऐसा माना जाता है कि आशीर्वाद के लिए उनके निधन के बाद भी घर के बुजुर्ग परिवार पर बने रहते हैं, लेकिन वास्तु शास्त्र के अनुसार, घर में तस्वीर लगाने से पहले पिता को भी कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। ऐसा नहीं करने पर जीवन में मुश्किलें बढ़ सकती हैं। पितृपक्ष 2 सितंबर 2020 से शुरू हो रहे हैं, जो 17 सितंबर 2020 तक रहेंगे। ऐसे में अगर आप भी इस दौरान अपने पूर्वजों को याद करते हैं, तो घर पर उनकी तस्वीर लगाते समय इन बातों का ध्यान रखें –

कभी भी पूर्वजों की तस्वीर न टांगें

वास्तु शास्त्र के अनुसार, घर में कभी भी अपने पूर्वजों की तस्वीर नहीं लटकानी चाहिए। चित्रों को हमेशा लकड़ी के स्टैंड पर रखना चाहिए। फोटो टांगना शुभ नहीं माना जाता है।

घर में पूर्वजों के बहुत सारे चित्र न लगाएं

यह भी माना जाता है कि घर में पिता की अधिक तस्वीरें नहीं होनी चाहिए। इसके अलावा, ऐसी तस्वीरों को ऐसी जगह पर न रखें, जहाँ हर किसी की नज़र सबसे पहले पड़े। वास्तु शास्त्र के अनुसार, किसी मृत व्यक्ति के चित्रों पर बाहरी व्यक्ति की दृष्टि से नकारात्मकता पैदा होती है।

घर में मंदिर में पितरों की तस्वीरें न लगाएं

कुछ लोग घर के मंदिर में पूर्वजों को भी रखते हैं और इसकी पूजा करते हैं। हालांकि शास्त्रों में पूर्वजों का स्थान उच्च माना गया है, लेकिन पूर्वजों और देवताओं का स्थान अलग है। ऐसा माना जाता है कि पूजा घर में पितरों की तस्वीर लगाने से व्यक्ति को जीवन में बाधाओं का सामना करना पड़ सकता है। परिवार में अशांति हो सकती है।

जिन स्थानों पर पिताओं की तस्वीर नहीं लगाई जानी चाहिए

पिताओं की तस्वीरों को बेडरूम में, घर के बीच और किचन में नहीं लगाना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि यह पारिवारिक कलह के साथ शांति को बाधित करता है। जबकि हॉल या मुख्य लिविंग रूम में उनकी तस्वीर लगाना अधिक उपयुक्त है।

जीवित सदस्यों की तस्वीरों को पिताओं की तस्वीरों के साथ न रखें

वास्तु शास्त्र के अनुसार, घर के जीवित लोगों की तस्वीरों पर कभी भी पिता की तस्वीर नहीं लगानी चाहिए। ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से जीवित लोगों का जीवनकाल कम हो जाता है और उनके जीवन पर संकट आने की संभावना होती है, इसके साथ ही व्यक्ति के जीवन पर बुरा प्रभाव पड़ता है।

तस्वीर के लिए सही दिशा

वास्तु शास्त्र के अनुसार, पिताओं की तस्वीर उत्तर की ओर मुख वाली दीवारों पर ही लगानी चाहिए। शास्त्रों में दक्षिण को पितरों की दिशा माना गया है। फोटो में पित्रो की नजर दक्षिण की ओर होनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »