द वाइट फेथर स्नाइपर – जिसने अकेले 300 से 400 लोगो को मार गिराया , जानिए क्यों

कार्लोस हैथकोक एक अमेरिकी स्नाइपर थे जिन्हें द वाइट फेथर के नाम से जाना जाता है। कार्लोस अकेले ही पूरे आर्मी के बराबर थे। कार्लोस युद्ध मे इतने धीमी गति से जमीन पर रेंगते हुए चलते थे कि उनके आसपास के जानवरों को भी एहसास नही होता था। और इसी वजह से वे दुनिया के ऐसे स्नाइपर थे जिनका मुकाबला कर पाना नामुमकिन था। कार्लोस बचपन से ही अमेरिकी आर्मी के किस्से सुनते हुए बड़े हुए थे और इसी वजह से वे बड़े होकर मरीन स्नाइपर बनना चाहते थे। कार्लोस ने 17 साल की उम्र में ही यूनाइटेड स्टेट्स मरीन को जॉइन कर लिया था।

कार्लोस का जन्म 20 मई 1942 को हुआ था। कार्लोस ने अपने लाजवाब हुनर का प्रदर्शन यूनाइटेड स्टेट्स के शूटिंग चैंपियनशिप को जीत के दिखाया था। कार्लोस अपने दुश्मनों को सूर्योदय और सूर्यास्त के वक़्त ही शूट करते थे। उनका यह मानना था कि सूर्योदय के समय सैनिको का दिमाग काम नही करता है और सूर्यास्त के समय सैनिक थक जाते है। अपने चालाक दिमाग के वजह से उन्होंने बहुत से वांटेड क्रिमिनल्स को मार गिराया था। कार्लोस अपने टोपी पर एक वाइट फेथर लगाते थे जिसके वजह से उनका नाम द वाइट फेथर स्नाइपर पड़ गया था।

कार्लोस ने नार्थ वियतनाम के आर्मी जनरल को कड़ी सुरक्षा में बहुत ही आराम से मार गिराया था। कार्लोस के बारे में यह कहा जाता है कि उन्होंने अपनी पूरी लाइफ में 300 से 400 दुश्मनों को मार गिराया था। कार्लोस ने अपाचे स्नाइपर और कोबरा स्नाइपर जैसे दो खतरनाक स्नाइपर्स को भी मार गिराया था। कार्लोस का कार्यकाल यूनाइटेड स्टेट्स आर्मी में 1959 से 1979 तक था। कार्लोस ने रिटायरमेंट के बाद एक स्नाइपर ट्रेनिंग सेंटर खोला था। जिसमे उन्होंने बहुत से लोगो को स्नाइपर की ट्रेनिंग भी दी थी। कार्लोस को बहुत सारे अवार्ड्स भी मिले थे और उनकी मृत्यु 23 फरवरी 1999 को हुई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »