दुनिया मे ऐसे भी लोग होते है जो भूख लगने पर रोटिया नही मिट्टी कि रोटिया खाया करते है।

अतिरिक्त रूप से ग्रह कितना अजीब है। जहां एक ओर लोगों के पास इतना पैसा है कि वे सभी नकदी खर्च करने के बावजूद अपना सारा पैसा खर्च करने में असमर्थ हैं, वहीं दूसरी ओर दुनिया के भीतर ऐसे लोग भी हैं जो भूख की वजह से एक दिन मर रहे हैं। ये लोग प्रत्येक दिन दो भोजन भी नहीं कर पाते हैं। ऐसी स्थिति में, एक ऐसी गंदी स्थिति आ गई है कि लोग मिट्टी से बने ब्रेड खाने के लिए मजबूर हैं। जी हां, हम बात कर रहे हैं कैरेबियाई द्वीप ‘हैती’ की। यहां चीजें इतनी बुरी हैं कि लोग खाने के लिए कुछ भी मांगने में असमर्थ हैं। यहां लोग गीली मिट्टी में नमक डालकर रोटी बना रहे हैं और साथ में उनके बच्चे इन रोटियों को खा रहे हैं। इस देश की दर्दनाक कहानी सुनकर आपकी आंखों में भी आंसू आ जाएंगे।

आपको बता दें कि हाल ही में यह सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है, जिसे क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर किया है। इसे देखकर हर किसी का दिल अंदर से टन टना रहा है। सहवाग ने साझा करके एक भावनात्मक अपील की है। उन्होंने लिखा- ‘गरीबी! हैती में, मिट्टी में नमक मिला कर रोटियां बनाई जाती हैं, जिसे वहां के लोग खा रहे हैं। कृपया … कृपया खाना बर्बाद न करें। जिस चीज की हम सराहना नहीं करते हैं वह किसी के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। अपने बचे हुए खाने को जरूरतमंदों को दान करें या रोटी बैंक में पहुंचाएं जो जरूरतमंदों को रोटी पहुंचाते हैं। ‘आप देख सकते हैं कि लोग मिट्टी में नमक और पानी डालकर आटा तैयार कर रहे हैं, जिसके बाद उन्होंने रोटी के आकार देने के बाद इसे सूखने के लिए इस मिट्टी को धूप में रख दिया। जिसके बाद यहां के व्यक्ति और युवा नमक में मिश्रित इस रोटी को खा रहे हैं।

=

अतिरिक्त रूप से ग्रह कितना अजीब है। जहां एक ओर लोगों के पास इतना पैसा है कि वे सभी नकदी खर्च करने के बावजूद अपना सारा पैसा खर्च करने में असमर्थ हैं, वहीं दूसरी ओर दुनिया के भीतर ऐसे लोग भी हैं जो भूख की वजह से एक दिन मर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »