गाँव वाली लड़की की शादी की पढ़े मजेदार कहानी

एक गाँव में जीवाराम नाम का आदमी रहता था।उसके दो लड़के भोलेराम,आत्माराम और लड़की रानी साथ में रहती थी।आत्माराम के दोनों बेटे बहुत बहुत ताकतवार थे।आत्माराम बोहत अच्छा आदमी था,उसकी गाँव में अच्छी पहचान थी।आत्माराम की बेटी रानी अब शादी लायक हो चुकी थी इस कारण वह अपने बेटी के लिए रिश्ते देखने लगा।एक लड़के वाले रानी को देखने आये और उनको रानी बेटी पसंद आगयी।

परंतु लड़के के पिता ने कहा की,मेरा बड़ा भाई जीवा भी आपका घर देखने आयेंगा उसके बाद ही हम इस रिश्ते को पक्का समजेंगे और जाते-जाते ये भी कहा की बड़े भाई का स्वभाव थोड़ा चिड़चिड़ा है। कुछ दिनों बाद जीवा नाम का एक आदमी आत्माराम के घर आया।आत्माराम ने उससे पूछा की आप कौन है,तो वह मैं लड़के वालो की तरफ से हु ये कहकर घर के अंदर चला गया।आत्माराम समझा यही जीवा होगा करके मानसन्मान करने लगा।

खाने को बिरयानी माँगने लगा और अच्छे अच्छे पकवान बनाने का ऑर्डर करने लगा।आत्माराम का पूरा परिवार उसकी सेवा करने लगा।भोलेराम और जीवाराम को जंगली साँड़ कहकर उनको बुलाने लगा।

वे समजते थे की जीवा का स्वभाव थोड़ा चिड़चिड़ा है इस कारण वो वैसा करता होंगा।जीवा खाना खाने के बाद रोटिया इधर उधर फेकने लगा तब भोलेराम को बहुत गुस्सा आया।परंतु वह बहन की शादी होने तक चुपचाप था।जीवा भोलेराम के ऊपर बैठ गया और गाँव घुमाने को कहा।बिचार भोलेराम वह सबकुछ काम करता रहा।एक दिन जीवा नाम का दूसरा आदमी आया और बड़े अच्छे स्वभाव से आत्माराम से बात करने लगा की,वह लड़के वालो की तरफ से है और उनके छोटे भाई ने उनको गलत बताया है की वह चिड़चिड़ा है।

तब आत्माराम समझ गया की पहले वाला आत्माराम गलत आदमी है इस कारण आत्माराम उसे मारने लगा।भोलेराम भी बोहत गुस्से में था इस कारण नकली जीवा की उठाया और उसे जंगली साँड़ पर बैठा दिया।नकली जीवा मन में पछताने लगा और जंगली साँड़ से मार खाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »