क्रिकेट से संन्यास के बाद धोनी कर सकते हैं बड़े काम, इन 5 पेशों में आ सकते नजर

आपको बता दें कि क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद धोनी किसी अलग अंदाज में दिखाई दे सकते हैं धोनी 5 तरह के पेशों में अपने हाथ आजमा सकते हैं जैसा कि आपने देखा है कि कई क्रिकेटर क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद राजनीति में, पुलिस में या फिर कमेंट्री करते हुए नजर आते हैं। इसी तरह धोनी भी संन्यास के बाद किसी एक पेशे में नजर आ सकते हैं। चलिए आपको बताते हैं कि वह कौन से पांच पेशे हैं,जिसमें क्रिकेट से संन्यास के बाद उन्होंने नजर आ सकते हैं।

दोस्तों अगर पहले पेशे की बात करें तो धोनी क्रिकेट से संन्यास के बाद राजनीति में अपना हाथ आजमा सकते हैं। धोनी के पास एक अच्छी फैन फॉलोइंग है जो उन्हें राजनीति में काफी अआगे जा सकती है। अगर धोनी किसी इलेक्शन में खड़े होते हैं तो आप और हम उन्हें आने नहीं देंगे क्योंकि आप और हम सब उनके बड़े फैन हैं। हालांकि इसकी उम्मीद बहुत कम है कि धोनी राजनीति में आएंगे, क्योंकि उनका साधारण और शांत स्वभाव राजनीति के माहौल में फिट नहीं बैठता है।

दूसरे नंबर की बात करें तो धोनी खुद को एक अच्छे बिजनेसमैन के रूप में साबित कर सकते हैं। धोनी के तेज और चालाक दिमाग के बारे में तो आप और हम सब जानते हैं। यही वजह है कि बिजनेस फील्ड में वे एक अच्छे बिजनेसमैन साबित हो सकते हैं। बता दें कि धोनी कई बड़ी कंपनियों के ब्रांड एंबेसडर भी है इसके अलावा धोनी स्पोर्ट्सफिट प्राइवेटेड लिमिटेड जिम के मालिक हैं। जिसकी फ्रेंचाइजियां भारत के लगभग हर बड़े शहर में है। धोनी पहले से ही बिजनेस करते हैं लेकिन वे अपना 100 परसेंट नहीं दे पाते थे। अब जब वह क्रिकेट से फ्री हो चुके हैं तो वे अपना 100% अपने बिजनेस में दे सकते हैं और देश के बड़े बिजनेस टाइकून बनकर लोगों के सामने आ सकते हैं।

चलिए दोस्तों तीसरे पेशे की तरफ बढ़ते हैं धोनी संन्यास के बाद खेती करते हुए भी नजर आ सकते हैं। हाल ही में लॉकडाउन के दिनों में धोनी की खेत में काम करते हुए कुछ तस्वीरें वायरल हुई थी। धोनी ने स्वराज कंपनी का एक ट्रैक्टर भी खरीदा था जिसकी कीमत लगभग 8 लाख थी। इसके अलावा धोनी न्यू ग्लोबल नाम का एक ब्रांड लांच कर सकते हैं जिसके जरिए वे किसानों की मदद करेंगे। इस तकनीक से वे दूरदराज रहने वाले किसानों तक सस्ते दामों में फर्टिलाइजर पहुंचा सकते हैं। इसके लिए धोनी की राज्यों की सरकारों के साथ बाजी चल रही है।

अगर चौथे नंबर की बात करें तो धोनी क्रिकेट से संन्यास के बाद एक कोचिंग सेंटर भी खोल सकते हैं। धोनी जिस शैली के खिलाड़ी हैं और उन्होंने अपनी मेहनत से खुद को जहां तक पहुंचाया है, इसे आप और हम सब जानते हैं। अगर धोनी कोई कोचिंग सेंटर खोलते हैं और युवा खिलाड़ियों को आमंत्रित करते हैं तो हर खिलाड़ी उनके कोचिंग सेंटर में हिस्सा लेना चाहेगा। क्योंकि देश का हर युवा धोनी की तरह अपने देश के लिए खेलना चाहता है। ऐसे में धोनी इसे अच्छी तरह उन्हें क्रिकेट की ट्रेनिंग और कोई नहीं दे सकता।

पांचवी और सबसे बड़ी बात यह है कि धोनी क्रिकेट से संन्यास के बाद भारतीय सेना में अब ज्यादा वक्त बिता सकते हैं। जैसा कि आप जानते होंगे कि 2011 वर्ल्ड कप के बाद धोनी को सेना द्वारा लेफ्टिनेंट कर्नल बनाया गया था। हाल ही में जब न्यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल मैच में भारतीय टीम हार गई थी उसके बाद धोनी क्रिकेट से ब्रेक लेकर भारतीय सेना के साथ जुड़ गए थे और वहां लंबा वक्त बिताया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »