क्या मोबाइल से डिलीट की गई फोटो वापस आ सकती है? जानिए

मोबाइल से डिलीट डाटा , फैक्ट्री डाटा रिसेट , फॉर्मेट के बाद भी डाटा बड़ी आसानी से रिकवर हो जाता है

ऑन सिंगल click .

“Data is new currency of world”

1 दरअसल हमारा डाटा (फोटो,टेक्स्ट ,ऑडियो, वीडियो ) डिलीट ही नहीं होता है । बस हमें दिखना बंद हो जाता है और इसे बहुत आसानी से रिकवर किया जा सकता है ।

डिलीशन दो टाइप के होते है

लॉजिकल डिलीशन
फिजिकल डिलीशन
जो लॉजिकल डिलीशन में फोटो डिलीट नहीं होती बस उसका पॉइंटर (address) डिलीट होता है और हमें फोटो नहीं दिखती । लेकिन डाटा फिजिकल रूप से प्रेजेंट होता हो ।

ये हम ऐसे समझ सकते है जैसे हमें कोई बात याद नहीं आ रही है लेकिन वो हमारे दिमाग के स्टोरेज में होता है और बाद में याद आ जाता है ,ये है लॉजिकल डिलीशन । और बाद में याद आ जाता है मतलब रिकवरी हो गई .

फिजिकल डिलीशन में डाटा पूरी तरह डिलीट हो जाता है और इसे रिकवर नहीं किया जा सकता है । मतलब डाटा आपके फ़ोन की दुनिया से हमेशा हमेशा के लिए ख़त्म हो जाता है

हमारा डाटा मेमोरी के डिस्प्लैटर पर स्टोर होता है और एक हैडर लग होता रीड और राइट के लिए । उसे डिस्प्लैटर पर प्रेजेंट डॉट्स को रिकवरी सॉफ्टवेयर बड़ी आसानी से ट्रेस करके रिकवर कर लेते है

मोबाइल के लिए रिकवरी सॉफ्टवेयर है

  1. DiskDigger
  2. EaseUS MobiSaver
  3. Dr.fone

BONUS POINT-

मोबाइल से डिलीट डाटा , फैक्ट्री डाटा रिसेट , फॉर्मेट से फिर वापस नहीं आ सकता ये सब मन का भ्रम है और वहम है ।

इसी वजह से कई लोग ने अपने लिए बहुत बड़ी मुसीबत मोल ले लेते है

हम कई बार पुराने मोबाइल को बेचने के समय फैक्ट्री डाटा रिसेट कर देते है और सोचते है डाटा गायब हो गया है पर ऐसा नहीं होता । लोग आपका डाटा सॉफ्टवेयर से रिकवर और डाटा रिकवरी फॉरेंसिक से पर्सनल फोटो, मैसेज, ऑडियो, वीडियो को रिकवर करके आपको ब्लैकमेल करते है और मनमानी पैसा डिमांड करते है ।

जब भी आप मोबाइल बेचे तो फिजिकल डिलीशन करे ।

अगर आपका

एंड्राइड फ़ोन है तो सेटिंग में जाकर सिक्योरिटी में एन्क्रिप्ट फ़ोन करे और फिर फैक्ट्री डाटा रिसेट कर सकते है
दूसरा तरीका है अपने फ़ोन को फॉर्मेट करे और अपना कैमरा ऑन कर दे मेमोरी फुल होंने तक और फिर फॉर्मेट करे ।
तीसरा प्ले स्टोर से Mobile Go एप्प डाउनलोड करके फोटो डिलीट करे जो रिकवर नहीं हो सकती इर्रिवर्सिबले डिलीशन .
फिजिकल डिलीशन को manually करते है तो उसके कांसेप्ट को भी समझ लीजिये , जब ब्लैकबोर्ड पर हम लिखते थे उसको मिटाने के बाद भी थोड़ी मुश्किल से (निशान से ) पता चलता है आखिर लिखा क्या । तो हम उसके ऊपर फिर लिख देते थे फिर मिटाते थे । तब असंभव हो जाता है पता लगाना आखिर लिखा क्या है , (रिकवर करना) । यही concept दूसरे method में use है ।

बहुत सारे लोग और मोबाइल शॉप पुराने मोबाइल का नए मोबाइल से ज्यादा कीमत पर खरीदते है क्यकि उनको पता है इस मोबाइल के अंदर पड़े डाटा से लाखो कमा सकते है .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »