कुछ औषधीय पौधे जो हमारी सेहत के लिये फायदेमंद है

हमारे आस पास की खाली पड़ी जगह में अनेक प्रकार के औषधीय पौधे पाए जाते है, परंतु इन पौधों की जानकारी नही होने के कारण हैम इनका उपयोग नही कर पाते है।तुलसी :-   हमारे देेेश में तुलसी को एक पवित्र पौधा माना जााता है, धार्मिक  दृष्टि के साथ साथ साथ औषधीय रूप से भी बहुत ही गुणकारी है तुलसी के पतो का रोज सेेवन करने से खून साफ रहता हैैं तथा उल्टी,दस्त,  बुखार आदि मेंं बहुत ही  फायदेमंद हैै l

  1. तुलसी का प्र्त्यक भाग स्वास के लिय लाभकारी होता है
  2. तुलसी आंटी बक्टीरियल और आंटी बायोटिक होती है जो मलेरिया की बुखार में बड़ी ही कारगर होती है
  3. तुलसी खांसी और जुखाम मे भी बहुत फायदेमंद है
  4. महिलाओ के अनियमित पीरियड में भी तुलसी बहुत फायदेमंद होती है
  5. तुलसी कोलेस्टेरोल तथा ब्लड प्रेसर को भी नियंत्रित करती है

एलोवेरा:-   एलोवेरा एक छोटा सा पौधा ह जिसकी खेती कर किशन आर्थिक रूप से संबल प्रप्त करता है,एलोवेरा की पत्ति कांटे युक्त तथा रस युक्त होती है lएलोवेरा के ओषधीय गुुण की बात करें तो एलोवेेरा ओषधीय गुण का धनी हैैl

  1. एलोवेरा हमारे शरीर मे खून की कमी को दूर करता है साथ में रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ता है
  2. एलोवेरा मे फाइबर होते है जो हमारी पाचन शक्ति को बढ़ता है
  3. एलोवेरा चेहरे के कील व मुहासे को दूर कर चेहरे पर गलो लता है
  4. एलोवेरा जोड़ो मे दर्द की समस्या को भी कम करता है
  5. एलोवेरा शरीर का वजन कम करने में भी सहायक है

 अश्वगंधा:-  अश्वगंधा एक जंगली पादप है जो अपने आस पास की खाली पड़ी जगह मेंं उग जाता है परन्तु अश्वगंधा में ऐसे बहुुुत से गुुण होते है जो हमारे शरीर को सवस्थ बनाये रखता है।

  1. अश्वगंधा हमारे शरीर को तनाव से मुक्त करने मे सहायक है
  2. अश्वगंधा याददस्त तेज करने तथा दिमाग को फ्रेश बनाए रखने मे सहायक है
  3. पढ़ाई मे मन नहीं लागने से लेकर स्पाइनल कॉर्ड इंजूरी तकअश्वगंधा सब जगह कम आता है
  4. अश्वगंधा हमरे सरीर के स्ट्रेश हार्मोन्स को कम कर देते है
  5. अश्वगंधा अनिद्रा की परेसनी से मुक्ति दिलाता है

 गिलोय:-   गिलोय एक जंगली पौधा है इसके पत्ते और तना औषधि रूप में काम में लेते हैं।इसे अमृता के नाम से भी जाना जाता है। बुखार का इलाज करने से लेकर पाचन एवं प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में भी सहायक है।

  1. गोलोय रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने मे सहायक हैl
  2. गिलोय डेंगू के उपचार मे बहुत ही फायदेमंद होता है l
  3. गिलोय हमारे शरीर मे खून साफ करने मे महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है l
  4. गिलोय मे एंटी एलर्जिक और एंटी बायोटिक गुण भरपुर मात्रा मे पाया जाता है l
  5. गिलोय मधुमेह के उपचार मे सहायक होता है l

नीम:-  नीम एक पर्णपाती रेगिस्तानी वृक्ष है जो 10 से 15 फिट लंबा होता है।इसके फलों को निम्बोली कहते है।नीम में बहुत से औषधीय गुण पाए जाते है जो इस प्रकार है।

  1. नीम में जिवाणु रोधी एवं फंगसरोधी गुण पाए जाते है जो कि रूसी के उपचार तथा सिर की त्वचा को सवस्थ रखने में सहायक है।
  2. नीम  का रस मधुमेह रोगियों के लिए बहुत ज्यादा फायदेमंद है।
  3. नीम की छाल शरीर पर उपस्थित फोड़े-फुंसियों के उपचार में  सहयक होती है।
  4. नीम की पत्तियों को उबालकर नहाने से त्वचा संबंधित रोगों से निजात मिलती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »