ऐसे जीव जिन्हें भगवान ने नहीं बल्कि इंसान ने बनाया

हमारी धरती अपने आप में एक अजूबा है जहां हर जो चीज़ उपलब्ध है जो जीवन के पनपने लिए जरुरी है! जहाँ जीवित और गैर जीवित चीजें रहती है। यह विभिन्न प्रकार के जीव जंतु और पानी में रहने वाले जीव रहते है। इतना ही नहीं इस दुनिया में जितने तरह के जीव रहते है उनका एक बढ़ा भाग आज तक खोजा ही नहीं गया। और इसी वजह के कारण जब कभी इन रहस्मय जानवरों की ख़बरें सामने आते ही बड़ी खबर बन जाती है। आपने हमेशा सुना होगा धरती पर हर जीव भगवान या प्रकृति के द्वारा बनाया गया है पर कुछ जीव ऐसे भी हैं जिन्हें भगवान या फिर प्रकृति नहीं बल्कि इंसानों ने बनाया! इंसान की उत्सुकता और उसकी ढूंढी प्रवृति के चलते ऐसे जानवर भी इस धरती पर आ गए जिन्हे इस प्रकृति और भगवान ने नहीं बल्कि इंसानो ने अपने दिमाग से बनाया है। जानते है कुछ ऐसे हाइब्रिड (Hybrid) जीवों के बारे में जिन्हें विज्ञान का चमत्कार कहा जा सकता है।

1 – जेगलियन: Jaglion


कनाडा की वाइल्ड लाइफ सेंच्युरी के संरक्षण में बनायी गयी इस नई जीव प्रजाति की कुल जनसँख्या फिलहाल 2 है। नर तेंदुए और मादा सिंह के मिश्रण से बना ये जीव देखने में किसी फिल्म की कल्पना जैसा लगता है। दिखने में ये जीव जितना सुन्दर और विचित्र है फितरत से ये उतना ही उग्र और बेहद तेज रफ्तार वाला है। हो सकता की आने वाले समय में इस जीव को हम और देख सकेंगे।

2 – लायगर: Liger


नर सिंह और मादा बाघ के डीएनए से तैयार किया गया ये जीव दुनिया में बिल्लियों की प्रजातियों में सबसे बड़ी बिल्ली है। इनका वजन 400 किलो तक हो सकता है। इस प्रजाति की सबसे बड़ी बिल्ली का नाम है हरकुएलिस। जिसका वजन 410 किलो है। लायगर नाम की इस जाति को सुरक्षा में रखा गया है। क्योंकि ये बिल्ली की प्रजाति सबसे ज्यादा तेज, आक्रामक यानि क्रोधी, और बहुत शक्तिशाली है। इस जीव को सरंक्षण से बहार रखना दूसरे जंगली जानवरों के लिए खतरनाक है।

3 – कामा : Cama


कामा एक ऐसा हाइब्रिड है जिसे कैमल यानि ऊँठ और लामा के डी एन ए के मिश्रण से बनाया गया है। हालाँकि ऊँठ और लामा आकर और प्रकार में एक दूसरे से काफी अलग है, लेकिन इन दोनों के मिश्रण के मेल से तैयार ये जिव यानि की जानवर देखने और सुनने में अजीब लगता है पर ये चीज काफी दिलचस्प भी है। इस हाइब्रिड जीव को सबसे पहले 14 जनवरी 1998 में दुबई में तैयार किया गया था। जिसका मकसद लामा की ऐसी प्रजाति को बढ़ावा देना था जिससे ज्यादा से ज्यादा ऊन मिल सके। आर्टिफिशियल इनसेमिनेशन से तैयार से जानवर अपनी प्रजाति को आगे बढ़ने में पूरी तरह से सक्षम है। क्योंकि ऊँठ और लामा का मिश्रण होने के बावजूद ये जीव मादा लामा के साथ मिलने के प्रति काफी इच्छुक पाया गया।

4 – जोंकी: Zonkey


इंसानो द्वारा साइंस लेब में तैयार की गयी ये प्रजाति गधे और ज़ेबरा के मिश्रण से मिलकर बनी है। जिसे साइंस लेब में तैयार किया गया है क्योंकि आम तौर से ये दोनों जीव एक दुसरे के साथ मीटिंग नही करते। साइंस और वैज्ञानिकों की नई प्रजातियों को जन्म देने की ये मुकाबला आज ऐसे अद्भुत करिश्मे कर रही है जिनकी शायद ही कल्पना की जा सकती है।

5 – ड़ज़ो (Dzo)


यह एक मात्र ऐसी प्रजाति है जो बहुत तदाद में पायी जाती है जिसका नाम है ड़ज़ो (Dzo) जिसे एक विशेष दुधारू गाय और याक के मेल से सबसे पहले साइंस लैब में बनाया गया था। लेकिन इस प्रजाति के फायदे के मध्य नज़र इसका पालन बढ़ गया और अब यह विकसित प्रजाति बन चुकी है। इतना ही नहीं ये काफी अधिक मात्रा में दूध देती है और अपने बहुत बड़े शरीर के होने के कारन इससे अधिक मात्रा में मांस भी प्राप्त किया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »