एक सामान्य चाय के ठेले वाला औसतन कितने रूपये प्रति महीना कमा सकता है? जानिए

कई लोग ऐसे होंगे जो सरकारी नौकरी या अच्छी अच्छी मल्टीनेशनल कंपनी में कर्मचारी होंगे, में भी एक कंपनी में जॉब किया करता था, अच्छी सैलरी भी थी तकरीबन दोस्तो 30000 के करीब जो की स्टार्टिंग बहुत अच्छी मानी जाती है। तो दोस्तो अब में आपको बताता हूं घटना क्या हुआ में और मेरा एक सीनियर जो कि एक बहुत बढ़ा ऑफिसर था उनकी मासिक आय तकरीबन 80000 के करीब थी ओर हम दोनों की अच्छी दोस्ती भी थी तो हम जैसे ही छुट्टी मिलती थी तो हम घूमने चले जाया करते थे,

एक दिन ठंडी के मौसम में हम जब घूमने गए तो हम एक चाय वाले के दुकान में गए तो हमने पहले चाय पिया फिर वही पर बैठ कर गाप शाप करने लगे तो मेरा सीनियर थोड़ा घमड़ी टाइप का था मेरे को बोला कि भाई आज बता में पूरी चाय कि दुकान खरीद लेता हूं ओर रोज रोज चाय पीने की दिखत भी खत्म तो बो चाय वाला गुस्से में हमारी ओर देखने लगा ओर बोला साहब आप लोग क्या करते हो ।

तो मेरे सीनियर ने बोला हम उस बढ़ी कंपनी में इस पद पर है ओर सैलरी के बारे में बताने लगा बढ़े ही घमंड भरे अंदाज में फिर क्या था उस चाय वाले ने जो बोला ये सुन कर मेरा ओर उं भाई साहब के पसीने छू ठ गए उसने बोला आप लोग महीने में जितना कमाते हो हैं में शायद उतना नहीं कमा पाऊ परन्तु आप ये बताओ क्या आप लोग अपने काम से खुश हो ओर उस चाय वाले ने धीमे स्वर में कहा चलो मान लो आप लोग खुश हो लेकिन आपको आज़ादी है। सही से जीने की में ये नहीं कह रहा हूं कि में चाय बेच रहा हूं तो में बहुत खुश हूं पर में बिना टेंशन में रात को सोता हूं ओर सुबह जुल्डी उठने की भी टेंशन नहीं नहीं किसी की ज्यादा बात सुनने की टेंशन ओर फिर उस चाय वाले ने बोला आप जिस कंपनी में काम करते हो क्या आप उस कंपनी का मालिक कभी बन पाओगे नहीं ना कभी नहीं ,

परन्तु मेरे दुकान में देखिए अभी 3 लोग काम कर रहे है, जिनको में हर महीने 8000 रुपए देता हूं ओर अगर मेने अच्छे से मेहनत किया तो हो सकता है इस जैसे 100 लोगो को रोजगार से सकू, और फिर उस चाय वाले ने हूं जिस कंपनी में काम करते है वह एक कार बनाने वाली कंपनी थी, उसी कंपनी की सबसे टॉप वेरियंट वाली कार उसके पास थी। जिसको हम खरीदने का सपना देखते थे।

और वह चाय बीच कर खरीद लिया ओर बोला देखिए साहब किसी को कभी भी नीचा नहीं बताना चाहिए। में सही काहू ये चाय वाले की बात सुन कर मेरे सीनियर लगभग 1 महीना तक ज्यादा नहीं बोलते थे। सभी से अच्छे से पेश भी आते थे। ओर में तो खुद सोच में पढ़ गया था। लेकिन उसके बाद से ही मेरे जीवन में कुछ ऐसा हुए की मेने वह कंपनी छोड़ ने का फैसला कर लिया ओर मेने अपना एक बिजनेश शुरू किया है कपड़े मैन्युफैक्चरिंग का ओर आज में अच्छी इनकम भी कर लेता हूं। उस कंपनी से लगभग 3 गुना ज्यादा ओर परिवार के साथ रहता हूं ऐसा मानो की उस चाय वाले ने मेरी जिदंगी ही बदल दिया दोस्तो ये एक सच्ची घटना है। में ये नहीं कहूंगा की नोकरी करना बुरी बात है। अच्छी है परन्तु किसी को कभी छोटा नहीं समझना चाहिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »