एक बार जरूर जानिये भारत में स्थित भगवान शिव की इन 7 सबसे ऊँची मूर्तियाँ के बारे में

शिव की महीमा तो सभी जानते हैं। भोलेनाथ कहे जाने वाले शिव जी अपने भक्तों की हर मनोकामना को जल्दी ही पूरा कर देते हैं। भारते में उनके कई आलौकिक और रहस्यमयी मंदिर स्थापित हैं। इसके साथ ही बात अगर उनकी मूर्तियों की करें तो वो भी पूरे विश्व में पाई जाती हैं। इसके साथ उनकी मूर्तियां अलग-अलग ऊंचाइयों की बनी हैं। तो चलिए आज हम आपको करूणामयी शिव जी की सबसे ऊंचाई पर बनी शिव प्रतिमाओं के बारे में बताते हैं…

राजस्थान में बनी नाथद्वारा शिव मूर्ति

राजस्थान के नाथद्वारा में भगवान शिव की बहुत ही ऊंची मूर्ति स्थापित है। इसे पूरे विश्व की चौथी सबसे ऊंची मूर्ति माना गया है।

बात इसकी ऊंचाई की करें तो यह लगभग 351 फीट ऊंची है। इसे उदयपुर से लगभग 50 किलोमीटर की दूरी पर श्रीनाथद्वारा के गणेश टेकरी में तैयार किया गया है। इस प्रतिमा के बारे में कहा जाता है कि यह यात्रियों को यहां पहुंचने के 20 किलोमीटर दूरी से दिखने लगती है।

कर्नाटक के उत्तर कंन्नड़ में बनी शिव मूर्ति

यह मूर्ति शिव जी के मुरुदेश्वरा मंदिर के पास बनी है। यह कर्नाटक के उत्तर कंन्नड़ जिले पर स्थित है। इस मूर्ति की ऊंचाई लगभग 130 फीट ऊंची बताई जाती है। इस मूर्ति में महादेव पद्मासन की मुद्रा में ध्यान लगाकर विराजित है। आसमान को छूती प्रतिमा के दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं।

गुजरात के बड़ोदरा में शिव प्रतिमा

गुजरात राज्य के बड़ोदरा शहर में बनी बड़ोदरा झील पर भगवान शिव की बहुत बड़ी प्रतिमा स्थापित है। उनकी यह मूर्ति झील के बिल्कुल बीच बनी हुई है। बात इस प्रतिमा की ऊंचाई की करें तो 120 फीट ऊंची है। अपनी इस मूर्ति में भगवान शिव वरद मुद्रा में खड़े हैं। उनके इस स्वरूप के दर्शन करने से लगता है मानों भगवान अपने भक्तों की हर मनोकामना को ध्यान से सुन रहें है और उन्हें उनकी इच्छापूर्ति का वरदान दे रहे हैं।

हरियाणा में मंगल महादेव की मूर्ति

हरियाणा जिले के गंगतान नामक गांव में शिव जी की मंगल महादेव नाम की प्रतिमा बनी हुई है। उनकी इस प्रतिमा की ऊंचाई करीब 101 फीट मानी गई है।

सिक्किम के नामची में बनी शिव मूर्ति

बहुत से लोग भगवान की असीम कृपा पाने के लिए चार धाम की यात्रा पर जाते हैं। ऐसे में ही सिक्किम में स्थित नामची शहर में पहाड़ी पर चारधाम यात्रा की तरह बद्रीनाथ, द्वारका, रामेश्वरम और पुरी के मंदिरों का प्रतिरूपों के तौर पर बना गए है। इसके साथ ही यहां पर भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों को भी मंदिर में स्थापित किया गया है। ऐसे में भक्त अपनी मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए यहां दर्शन करने जाते हैं। यहां पर शिव जी की आलौकिक और 108 फीट ऊंची मूर्ति भी स्थापित है।

हरिद्वार की हरकी पौड़ी पर बनी शिव प्रतिमा

हरिद्वार में गंगा नदी के थोड़ी दूरी पर भगवान शिव की विशाल प्रतिमा स्थापित है। इस मूर्ति की ऊंचाई 100 मीटर ऊंची है। यहां गंगा नदी में डुबकी लगाते समय ही शिव जी की प्रतिमा के दर्शन होते है।

कर्नाटक के बीजापुर राज्य में स्थित शिव मूर्ति

कर्नाटक के बीजापुर नाम के राज्य में शिव जी का भव्य और आलौकिक मंदिर स्थापित है। यह शिवगिरी मंदिर के नाम से जाना जाता है। मंदिर के अंदर ही भगवान शिव की 85 फीट ऊंची प्रतिमा स्थापित है। इस प्रतिमा में भोलेनाथ योगेश्वर रूप में अपने भक्तों को दर्शन देते है। इस प्रतिमा में शिव जी पद्मासन में बैठे हैं। साथ ही उनके हाथ जप करते हुई मुद्रा में दर्शाए गए है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »