इस जासूस महिला जिसकी वजह से 50 हजार सैनिकों की मौत हो गई

किसी भी युद्ध में जासूसों की भूमिका सबसे महत्वपूर्ण होती है। कोई भी जासूस एक स्थान से दूसरे स्थान तक ऐसी जानकारियां पहुंचा देता है, जिससे युद्ध स्थल के दृश्य का पूरा माजरा ही बदल जाता है।

हम एक ऐसे ही महिला जासूस के बारे में चर्चा करने वाले हैं जिसकी वजह से लगभग 50 हजार सैनिकों की जान चली गई थी।

मर्गेथा मैकलोड़ एक ऐसी ही जासूस महिला थी, जिसे इतिहास की एक खतरनाक जासूस महिला माना जाता है। इस महिला को ‘माता हारी’ के नाम से भी जाना जाता है। माता हारी एक कामुक नृत्यका थी। माता हारी को दुनिया को धोखा देने वाली महिला के रूप में जाना जाता है। माता हारी जर्मनी के लिए जासूसी किया करती थी। माता हारी की वजह से ही फ्रांस के लगभग 50 हजार सैनिकों को मौत के घाट उतार दिया गया था। माता हारी का व्यवसाय उसके लिए जासूसी करने में काफी मदद किया करता था। माता हारी को दुनिया में धोखा देने वाले महिला के प्रतीक के रूप में देखा जाता है। सन 1917 में जासूसी करने के आरोप में माता हारी को फ्रांस की राजधानी पेरिस में गोली मार दी गई। इस महिला का जीवन कामुक और जासूसी भरे कृतियों से भरा हुआ था।

माता हरी के जीवन पर सन 1931 में एक फिल्म का भी निर्माण किया गया था। इस फिल्म में माता हारी के कृत्यो को स्पष्टता के साथ दिखाया गया है।

जासूसी ड्रामा आमतौर पर ऐसे होते हैं जिसे देखने पर इंसान अंदर तक हिल जाता है। अगर इसे लिखने वाली फोबे वालर-ब्रिज हों तो इसमें भी डार्क कॉमेडी का तड़का मिल जाता है।

जासूसी कहानियों में किसी महिला का खूनी होना हमेशा ही आकर्षित करता है। इसका सबसे बड़ा कारण है कि महिलाओं का इस तरह के किरदार में कम देखा जाना और जो सामान्य नहीं होता वो हमेशा आकर्षित करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »